प्रतिभावान रिया / उम्र 16 वर्ष...8 अंतरराष्ट्रीय, 20 राष्ट्रीय समेत 150 से ज्यादा पुरस्कार मिले अब 22 को दिल्ली में राष्ट्रपति के हाथों मिलेगा बाल शक्ति पुरस्कार - Bhaskar Crime

Breaking

प्रतिभावान रिया / उम्र 16 वर्ष...8 अंतरराष्ट्रीय, 20 राष्ट्रीय समेत 150 से ज्यादा पुरस्कार मिले अब 22 को दिल्ली में राष्ट्रपति के हाथों मिलेगा बाल शक्ति पुरस्कार

भोपाल | ये है नेहरू नगर की रिया जैन। कक्षा 11वीं में पढ़ती हैं...अभी उम्र 16 की है...और उपलब्धि की फेहरिस्त में 8 अंतरराष्ट्रीय, 20 राष्ट्रीय, 72 जिला और राज्य स्तरीय पुरस्कार इनके नाम हैं। खास बात यह है कि ये सभी पुरस्कार रिया को कला और संस्कृति के क्षेत्र में मिले हैं। हालांकि इनकी प्रतिभा यहीं खत्म नहीं होती। फिजिक्स, केमेस्ट्री, गणित के साथ फाइन आर्ट्स की पढ़ाई करने वाली इस छात्रा ने अभी तक लेखन, कराते, विज्ञान मॉडल और स्केटिंग जैसी अलग-अलग प्रतियोगिताओं में भी 50 पुरस्कार जीते हैं।
अब रिया के पुरस्कारों की फेहरिस्त में जल्द ही भारत सरकार का बाल शक्ति पुरस्कार 2020 भी जुड़ने वाला है। यह पुरस्कार उन्हें कला एवं संस्कृति की श्रेणी में दिया जा रहा है। यह पुरस्कार 22 जनवरी को राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों रिया को प्रदान किया जाएगा। वहीं रिया 26 जनवरी को अायोजित परेड में शामिल होने के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिल सकेंगी। रिया इसका श्रेय पिता श्रेयांश जैन, मां रजनी और शिक्षकों को देती हैं।
रिया कहती हैं कि पेंटिंग्स बनाते समय वे वर्तमान में घट रही घटनाओं को ध्यान में रखती हैं। इन पेंटिग्स को बनाने का मकसद सिर्फ पुरस्कार जीतना नहीं है, बल्कि समाज को जागरूक करना भी है।
ऐसी पेंटिंग बनाकर देती हैं संदेश
बचपन में बच्चों को कई तरह की बेड़ियों में बांध दिया जाता है। उनके बाल अधिकार संरक्षित नहीं रह पाते। कभी बाल विवाह की बेड़ी तो कभी शारीरिक हिंसा इसी में बचपन गुजर जाता है। मजबूरी में बच्चे डस्टबिन से खाना उठाकर खाते हैं। बाल मजदूरी करनी पड़ती है। इनके डेवलपमेंट के लिए जरूरी है कि इन्हें इन सभी बेड़ियों से मुक्त किया जाए। बच्चों को टीकाकरण का अधिकार, उसे पोषण, खेलने और शिक्षा का अधिकार मिले। 
अलग-अलग वर्ग में मिलता है यह पुरस्कार...
महिला एवं बाल विकास केंद्रीय मंत्रालय की ओर से दिए जाने वाले बाल शक्ति पुरस्कार के विजेता को एक पदक, 1 लाख रुपये, 10,000 के पुस्तक वाउचर, एक प्रमाणपत्र तथा एक प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार नवोन्मेष, शिक्षा, खेल, कला व संस्कृति, सामाजिक सेवा तथा वीरता के लिए दिया जाता है।
इन उपलब्धियों ने राह की आसान
इंटरनेशनल स्टूडेंट आर्ट कॉम्पिटिशन में भी रिया लगातार दो वर्षांे से विजेता रही हैं। जुलाई 2019 में पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित राष्ट्रीय चित्रकला प्रतियोगिता में द्वितीय स्थान प्राप्त किया। इंटरनेशनल पिकासो आर्ट कॉन्टेस्ट में 3 वर्ष से विजेता रही हंै।