कोचर पर आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ रहते वीडियोकॉन समूह को 3,250 करोड़ का लोन देने में गड़बड़ी का आरोप ईडी ने फरवरी 2019 में चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के प्रमुख वेणुगोपाल धूत के खिलाफ मामला दर्ज किया Dainik BhaskarJan 10, 2020, 09:21 PM IST नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर की 78 करोड़ रुपए की संपत्तियां अटैच कर दीं। इनमें चंदा का एक मुंबई स्थित घर और उनसे जुड़ी कंपनी की संपत्तियां शामिल हैं। ईडी के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। ईडी के अधिकारियों ने बताया कि कोचर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग की रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत कार्रवाई के लिए वॉरंट जारी किया गया था। इसके तहत कोचर के मुंबई में स्थित फ्लैट और उनके परिवार से संबंधित एक कंपनी की संपत्तियों को जांच एजेंसी ने अटैच कर दिया। वीडियोकॉन मामले में ईडी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहा है आईसीआईसीआई बैंक की तरफ से वीडियोकॉन समूह को लोन देने में हुई अनियमितताओं और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ईडी चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर के खिलाफ जांच कर रहा है। वीडियोकॉन समूह के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत समेत कई अन्य लोगों को भी जांच के दायरे में लिया गया है। करीब 3,250 करोड़ रुपए का लोन देने में गड़बड़ी चंदा कोचर के सीईओ रहते आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप को 3, 250 करोड़ रुपए का लोन देने में कथित तौर पर अनियमितताएं की थीं। ईडी ने फरवरी, 2019 में इस मामले में आपराधिक मुकदमा दर्ज किया था। इसके तहत ही जब्ती की कार्रवाई की गई। चंदा कोचर पर भेदभाव और वीडियोकॉन ग्रुप को फायदा पहुंचाने के आरोप हैं। - Bhaskar Crime

Breaking

कोचर पर आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ रहते वीडियोकॉन समूह को 3,250 करोड़ का लोन देने में गड़बड़ी का आरोप ईडी ने फरवरी 2019 में चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के प्रमुख वेणुगोपाल धूत के खिलाफ मामला दर्ज किया Dainik BhaskarJan 10, 2020, 09:21 PM IST नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर की 78 करोड़ रुपए की संपत्तियां अटैच कर दीं। इनमें चंदा का एक मुंबई स्थित घर और उनसे जुड़ी कंपनी की संपत्तियां शामिल हैं। ईडी के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। ईडी के अधिकारियों ने बताया कि कोचर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग की रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत कार्रवाई के लिए वॉरंट जारी किया गया था। इसके तहत कोचर के मुंबई में स्थित फ्लैट और उनके परिवार से संबंधित एक कंपनी की संपत्तियों को जांच एजेंसी ने अटैच कर दिया। वीडियोकॉन मामले में ईडी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहा है आईसीआईसीआई बैंक की तरफ से वीडियोकॉन समूह को लोन देने में हुई अनियमितताओं और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ईडी चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर के खिलाफ जांच कर रहा है। वीडियोकॉन समूह के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत समेत कई अन्य लोगों को भी जांच के दायरे में लिया गया है। करीब 3,250 करोड़ रुपए का लोन देने में गड़बड़ी चंदा कोचर के सीईओ रहते आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप को 3, 250 करोड़ रुपए का लोन देने में कथित तौर पर अनियमितताएं की थीं। ईडी ने फरवरी, 2019 में इस मामले में आपराधिक मुकदमा दर्ज किया था। इसके तहत ही जब्ती की कार्रवाई की गई। चंदा कोचर पर भेदभाव और वीडियोकॉन ग्रुप को फायदा पहुंचाने के आरोप हैं।

  • कोचर पर आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ रहते वीडियोकॉन समूह को 3,250 करोड़ का लोन देने में गड़बड़ी का आरोप
  • ईडी ने फरवरी 2019 में चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के प्रमुख वेणुगोपाल धूत के खिलाफ मामला दर्ज किया

नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर की 78 करोड़ रुपए की संपत्तियां अटैच कर दीं। इनमें चंदा का एक मुंबई स्थित घर और उनसे जुड़ी कंपनी की संपत्तियां शामिल हैं। ईडी के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।
ईडी के अधिकारियों ने बताया कि कोचर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग की रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत कार्रवाई के लिए वॉरंट जारी किया गया था। इसके तहत कोचर के मुंबई में स्थित फ्लैट और उनके परिवार से संबंधित एक कंपनी की संपत्तियों को जांच एजेंसी ने अटैच कर दिया।
वीडियोकॉन मामले में ईडी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहा है
आईसीआईसीआई बैंक की तरफ से वीडियोकॉन समूह को लोन देने में हुई अनियमितताओं और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ईडी चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर के खिलाफ जांच कर रहा है। वीडियोकॉन समूह के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत समेत कई अन्य लोगों को भी जांच के दायरे में लिया गया है।
करीब 3,250 करोड़ रुपए का लोन देने में गड़बड़ी
चंदा कोचर के सीईओ रहते आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप को 3, 250 करोड़ रुपए का लोन देने में कथित तौर पर अनियमितताएं की थीं। ईडी ने फरवरी, 2019 में इस मामले में आपराधिक मुकदमा दर्ज किया था। इसके तहत ही जब्ती की कार्रवाई की गई। चंदा कोचर पर भेदभाव और वीडियोकॉन ग्रुप को फायदा पहुंचाने के आरोप हैं।