ईरान / प्लेन क्रैश में 176 की मौत; यूक्रेन पहले बोला- हादसे में आतंकियों का हाथ नहीं, फिर कहा- अभी जांच जारी - Bhaskar Crime

Breaking

ईरान / प्लेन क्रैश में 176 की मौत; यूक्रेन पहले बोला- हादसे में आतंकियों का हाथ नहीं, फिर कहा- अभी जांच जारी

  • ईरान ने इस हादसे से कुछ ही घंटों पहले इराक स्थित दो अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइलें दागीं
  • बोइंग 737-800 विमान 10 साल में 3 बड़ी दुर्घटनाओं का शिकार, 2010 में भारत में क्रैश हुआ था
  • भारत ने इराक-ईरान समेत खाड़ी देशों में जाने वाले नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की
  • ईरान के बुशहर जिले में बुधवार सुबह 4.9 तीव्रता के भूकंप के झटके भी महसूस किए गए

तेहरान. ईरान में तेहरान स्थित इमाम खोमेनी एयरपोर्ट पर बुधवार सुबह बोइंग-737 विमान उड़ान भरने के 3 मिनट बाद ही क्रैश हो गया। ईरान के आपातकालीन सेवाओं के एक अफसर ने सरकारी मीडिया से दावा किया कि विमान में सवार सभी 176 लोगों की मौत हो गई। इसमें 167 यात्री और 9 क्रू मेंबर्स थे। यूक्रेन के विदेश मंत्री ने बताया कि हादसे के वक्त विमान में ईरान के 82, कनाडा के 63, स्वीडन के 10, ब्रिटेन के 3, अफगानिस्तान के 4 और जर्मनी के 3 नागरिक थे। ईरान की फार्स न्यूज एजेंसी के मुताबिक, यूक्रेन एयरलाइंस का विमान तेहरान से यूक्रेन के कीव जा रहा था।
हादसे की वजह तकनीकी खराबी बताई जा रही है। यूक्रेन के ईरान स्थित दूतावास ने भी कहा था कि बोइंग विमान इंजन फेल होने की वजह से क्रैश हुआ। इसके पीछे आतंकी हाथ नहीं था। हालांकि, कुछ देर बाद ही दूतावास ने नया बयान जारी किया और उससे हादसे की वजह के पीछे इंजन फेल का दावा हटा लिया। कहा गया कि हादसे के पीछे पिछला बयान आधिकारिक नहीं था। जब प्रधानमंत्री ओलेस्की होनचारुक से घटना की वजह के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि इस बारे में पूरी जानकारी आने से पहले कोई कयास लगाना ठीक नहीं। 
यूक्रेन एयरलाइंस ने कहा कि वह अभी हादसे के कारण जानने की हरसंभव कोशिश में जुटी है। जांच में बोइंग, यूक्रेनी और ईरानी अधिकारियों की टीम जुटी है। यह यूक्रेन एयरलाइंस का पहला बड़ा हादसा है। 
‘फ्लाइट रडार 24’ वेबसाइट ने एयरपोर्ट के डेटा के आधार पर बताया कि यूक्रेन के बोइंग 737-800 विमान को स्थानीय समयानुसार सुबह 5:15 पर उड़ान भरनी थी। हालांकि, इसे 6:12 पर रवाना किया गया। उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद ही फ्लाइट ने डेटा भेजना बंद कर दिया। एयरलाइन ने इस मामले में अब तक बयान जारी नहीं किया है। 
ईरान की इस्ना न्यूज एजेंसी की तरफ से पोस्ट किए गए वीडियो में विमान के अंधेरे में क्रैश होने के बाद धमाका होते देखा जा सकता है। इस्ना ने घटनास्थल की फोटोज भी जारी कीं। इनमें विमान के मलबे को जमीन पर बिखरा देखा जा सकता है।
हादसे की जांच के लिए यूक्रेन विशेषज्ञों की टीम ईरान भेजेगा
यूक्रेन के प्रधानमंत्री ओलेक्सी हॉन्चरुक ने बुधवार को कहा कि हम सर्च ऑपरेशन और घटना की जांच के लिए विशेषज्ञों की टीम ईरान भेजेंगे। जांच टीम घटना के कारणों का पता लगाएगी।
भारत में भी हादसे का शिकार हुआ है बोइंग 737-800 विमान
बोइंग 737-800 दो इंजन वाला जेट है। दुनियाभर की सैकड़ों एयरलाइंस इस माॅडल के विमान इस्तेमाल करती हैं। 1990 में आया यह विमान बोइंग 737 मैक्स विमान का पुराना वर्जन है। बोइंग 737-800 भी इससे पहले कई दुर्घटनाओं का शिकार हो चुका है। मई 2010 में एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान मैंगलोर में लैंडिंग के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इसमें 150 लोगों की मौत हुई थी। बोइंग 737-800 क्रैश का सबसे ताजा मामला मार्च 2016 का है। फ्लाईदुबई एयरलाइन का विमान रूस के रोस्तोव-ऑन-डॉन एयरपोर्ट पर लैंड करने की कोशिश में क्रैश हुआ था। इसमें भी 62 लोेग मारे गए थे। 
बोइंग-737 विमानों के लिए खराब साल रहा 2019 और 2018
पिछले साल मार्च में बोइंग-737 मॉडल का ही एक विमान टेकऑफ के 6 मिनट बाद क्रैश हो गया था। इसमें 157 यात्रियों की मौत हुई थी। वहीं, 2018 में भी इंडोनेशिया के जकार्ता में लॉयन एयरलाइंस का बोइंग-737 उड़ान भरने के बाद ही क्रैश हुआ था। इसमें 112 की मौत हुई थी।