मप्र / भाजपा ने सागर में रखी मांग- जिंदा जलाए गए दलित की बेटी को सरकारी नौकरी और परिवार को 25 लाख की मदद दी जाए - Bhaskar Crime

Breaking

मप्र / भाजपा ने सागर में रखी मांग- जिंदा जलाए गए दलित की बेटी को सरकारी नौकरी और परिवार को 25 लाख की मदद दी जाए

  • शिवराज ने कहा- सरकार के निकम्मेपन की वजह से धनप्रसाद अहिरवार को जिंदा जला दिया
  • धनप्रसाद के साथ हुए अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ेंगे, न्याय दिलाकर ही दम लें

सागर. एक दलित को जिंदा जलाकर मारने के विरोध में मंगलवार को भाजपा ने सागर में विशाल सभा का आयोजन किया। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंच से मांग रखी है कि मृतक दलित धनप्रसाद अहिरवार की बेटी पूजा अहिरवार को सरकारी नौकरी और 25 लाख रुपए की मदद की जाए। उन्होंने कहा कि हमने फैसला किया है कि धनप्रसाद अहिरवार के साथ हुए इस अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ेंगे। हमने आज इस जंग की शुरुआत की है, इसको अंजाम तक पहुंचाकर ही हम चैन की सांस लेंगे। इस मौके पर पूजा अहिरवार ने एक ज्ञापन भी सौंपा है। 
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि "कमलनाथ जी, आपकी सरकार के निकम्मेपन की वजह से समाज के दानवों ने इस दलित परिवार को शिकार बनाया और धनप्रसाद अहिरवार को जिंदा जला दिया। यह बेटी उसी परिवार की बहू और धनप्रसाद की विधवा पूजा अहिरवार है, उसी बेटी की जुबानी उसकी व्यथा सुनिए और न्याय दीजिए। नरपिशाचों की वहशियाना मानसिकता का शिकार बने स्व. धनप्रसाद अहिरवार की धर्मपत्नी व बेटी पूजा की कसम खाकर कहता हूं कि इस दलित परिवार को न्याय दिलाकर ही दम लूंगा।"
प्रभावी कार्रवाई हुई होती तो बच जाता दलित 
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दलित परिवार को एक समुदाय विशेष के लोगों ने बार-बार प्रताड़ित किया। परिवार गुहार लगाता रहा। अगर तभी प्रभावी कार्रवाई हुई होती तो धनप्रसाद जिंदा जलने से बच जाता। शिवराज ने कहा कि कमलनाथ जी, दलित बेटी पूजा अहिरवार को न्याय नहीं मिला तो धिक्कार है, विधवा की हाय लगेगी। स्व. धनप्रसाद अहिरवार का परिवार अब मध्यप्रदेश का परिवार है। 
इन गरीब दलितों की आवाज आप तक क्यों नहीं पहुंची?
शिवराज ने कहा कि इन गरीब दलितों को बार-बार प्रताड़ित किया गया। आखिर क्यों नहीं इनकी आवाज आपकी सरकार तक पहुंचीं। दलितों के साथ हुए अन्याय के दस्तावेज को मैडम सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी को भेज रहा हूं। आप तीनों में जरा भी नैतिकता हो, तो सागर की धरती पर पूजा बेटी की तकलीफ़ को जानने और कमलनाथ जी से जवाब मांगने आओ। 
शिवराज दलित के दरवाजे पर खड़े होते थे 
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि याद करिए शिवराज सरकार के 15 सालों को, एक भी दलित पर कहीं कोई अत्याचार होता था तो तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी उसके दरवाजे पर खड़े होते थे। भाजपा का पूरा परिवार खड़ा होता था और कहते थे चिंता मत करो यह भाजपा परिवार तुम्हारे साथ है। इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और तमाम भाजपा नेता मौजूद रहे।