जबलपुर - राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने ज्ञान की संपूर्णता को प्राप्त करने के लिए देश की - Bhaskar Crime

Breaking

जबलपुर - राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने ज्ञान की संपूर्णता को प्राप्त करने के लिए देश की


ज्ञान की संपूर्णता प्राप्त करने के लिए देश की संस्कृति, इतिहास और विरासत को जानना जरूरी—राज्यपाल श्री टंडन
ट्रिपल आईटीडीएम का दसवां दीक्षांत समारोह संपन्न


जबलपुर - राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने ज्ञान की संपूर्णता को प्राप्त करने के लिए देश की संस्कृति, इतिहास और समृद्धशाली विरासत को जानना बेहद जरूरी बताया है । राज्यपाल श्री टंडन आज यहां पं. द्वारका प्रसाद मिश्र इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंफर्मेशन टेक्नालॉजी डिजाइन एण्ड मैनेजमेंट के दसवें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे ।
 राज्यपाल ने दीक्षांत समारोह में संस्थान के छात्र-छात्राओं का आव्हान किया कि वे तकनीकी के क्षेत्र में नये शोध और अनुसंधानों से जुड़कर देश का नाम दुनिया में रोशन करें ।  लेकिन साथ ही पूर्वजों की विरासत को भी अंगीकार कर अपने ज्ञान को समृद्ध बनायें । उन्होंने कहा कि जिस तकनीकी और ज्ञान की तरफ हम बढ़ रहे हैं हमारी विरासत में उनका उल्लेख है, बल्कि इससे ज्यादा विकसित कला इस देश ने दुनिया को सदियों पहले दी है ।
श्री टंडन ने कोणार्क मंदिर से लेकर आर्यभट्ट, चाणक्य और सुश्रुत का उल्लेख करते हुए कहा कि जिस ज्ञान को दुनिया ने स्वीकारा है यदि हम उसको ध्यान में रखते हुए आगे नहीं बढ़ेंगे तो जिस लक्ष्य को हम पाना चाहते हैं शायद उसमें सफल न हो सकें । राज्यपाल ने कहा कि तकनीकी और शिक्षा के क्षेत्र में आज नित नये आयाम जुड़ रहे हैं । दुनिया में हमारा नेतृत्व भी एक बार फिर उभर कर आ रहा है । यह अच्छी बात है कि हम दुनिया से नई-नई चीजें सीखें, लेकिन अपनी जड़ों की तरफ देखकर भी हमें आगे बढ़ना होगा ।  तभी हम विश्व गुरू की अपनी खोई हुई पहचान को वापस पा सकेंगे।
 राज्यपाल ने दीक्षांत समारोह में उपाधि प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को बधाई दी और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की । उन्होंने ट्रिपल आईटीडीएम को विविधतापूर्ण शिक्षा देने वाला संस्थान बताते हुए इसकी तरक्की के लिए भी शुभकामनाएं दी ।
 दीक्षांत समारोह के प्रारंभ में ट्रिपल आईटीडीएम पहुंचने पर राज्यपाल को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया ।  दीक्षांत समारोह में ट्रिपल आईटीडीएम के प्रशासक मंडल के अध्यक्ष डॉ. दीपक घैसास ने भी अपने विचार रखे । संस्थान के निदेशक प्रो. संजीव जैन ने ट्रिपल आईटीडीएम का प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया ।
 दीक्षांत समारोह में महामहिम राज्यपाल द्वारा उत्कृष्ट प्रदर्शन में संस्थान के 14 छात्रों को गोल्ड मेडल और 22 छात्रों को रजत प्रदान किये गये । इसके साथ ही बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी की 541, बैचलर ऑफ डिजाइन की 21, मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी की 137, मास्टर ऑफ डिजाइन की 53 और डॉक्टर ऑफ फिलासफी की 44 उपाधियां दीक्षांत समारोह में प्रदान की गई ।
मुक्ताकाशी रंगमंच का किया उद्घाटन:
 राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने पं. द्वारका प्रसाद मिश्र भारतीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी, अभिकल्पन एवं विनिर्माण संस्थान के दीक्षांत समारोह के बाद संस्थान परिसर में बने मुक्ताकाशी रंगमंच का उद्घाटन भी किया ।  इस अवसर पर संस्थान के प्रशासक मंडल के अध्यक्ष डॉ. दीपक घैसास भी मौजूद थे ।
जबलपुर सिटी ट्रांसपोर्ट कम्पनी लिमिटेड द्वारा आज मानस भवन में मेट्रो बसों के चालक एवं परिचालकों का प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया ।
प्रशिक्षण में  लगभग 200 चालक तथा परिचालक शामिल हुए । प्रशिक्षण के दौरान जिला कलेक्टर श्री भरत यादव एवं पुलिस अधीक्षक श्री अमित सिंह ने  चालकों एवं परिचालकों से शहर की यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने में सहयोग प्रदान करने का आग्रह किया तथा उन्हें नियमों का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए  आग्रह किया ।
प्रशिक्षण में अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित एवं संदीप जीआर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यातायात अमृत मीणा , जेसीटीसीएल के सचिन विश्वकर्मा, शीतल कुमार उपाध्याय तथा शैलेश तिवारी ने चालक तथा परिचालकों को यातायात के नियमों की जानकारी प्रदान करने के साथ-साथ मेट्रो बसों के संचालन के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों की जानकारी दी ।