नई दिल्‍ली (ऑनलाइन डेस्‍क)। चीन से बढ़ते खतरे को देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार की सुबह अचानक लद्दाख के नीमू पहुंच गए। चीन से बढ़ते तनाव के बीच उनका ये दौरा बेहद खास है। इसकी अहमियत इसलिए भी बढ़ी है क्‍योंकि नीमू में सेना का डिवीजनल हैडक्‍वार्टर है। यहां से ही सेना की गतिविधियों को अंजाम दिया जाता है। इसलिए इसकी और यहां पर पीएम मोदी की मौजूदगी की अहमियत काफी बढ़ गई है। पीएम मोदी के साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और थल सेनाध्‍‍‍यक्ष एमएम नरवाणे भी मौजूद थे। 
लेह से 35 किमी दूर स्थित नीमू लिकिर तहसील के अंतर्गत आता है। इसके ही दक्षिण पूर्व में करीब 7 किमी दूर मेग्‍नेट हिल है जो यहां पर आने वाले पर्यटकों के लिए काफी खास है। गर्मियों में यहां का तापमान 40 डिग्री तक चला जाता है जबकि सर्दियों में यहां का तापमान -29 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है। इस लिहाज से यहां पर किसी के लिए भी रहना काफी कठिन होता है। वर्ष 2010 में इस समूचे इलाके को बाढ़ का सामना करना पड़ा था। आपको बता दें कि नीमू समुद्र तल से 10300 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। सहगल का कहना है पीएम मोदी इस देश के 150 करोड़ लोगों का नेतृत्‍व करते हैं। आज पूरे देश को विश्‍वास है कि समय आने पर देश की सेना चीन ही नहीं पाकिस्‍तान को भी घुटने पर लाने की ताकत रखती है। ये पूछे जाने पर कि उत्‍तरी मोर्चे पर चीन के साथ साथ सीमा पर अब पाकिस्‍तान भी जवानों की तैनाती बढ़ा रहा है तो इससे कैसे निपटा जाएगा। उन्‍होंने कहा कि पाकिस्‍तान चीन के इशारे पर ये सबकुछ कर रहा है। पाकिस्‍तान ने अपने यहां पर मौजूद आतं‍की गुटों से भी भारत में अधिक से अधिक अस्थिरता फैलाने को कहा है। मेजर जनरल सहगल ने कहा कि वर्तमान में उत्‍तरी मोर्चे पर चीन और पाकिस्‍तान से मिल रही चुनौती ने हालात काफी गंभीर बना दिए हैं। लेकिन साथ ही उन्‍होंने विश्‍वास भी दिलाया कि सेना इन दोनों से एक साथ बखूबी निपटना भी जानती है।
रिटायर्ड मेजर जनरल पीके सहगल मानते हैं कि पीएम मोदी का ये दौरा सेना का हौसला बढ़ाने के लिए लिहाज से काफी अहमियत रखता है। उन्‍होंने दैनिक जागरण से बात करते हुए कहा कि यहां पर बड़ी संख्‍या में जवान रहते हैं। ऐसे में यहां पर जाकर सैनिकों को ये बताना और उन्‍हें ये विश्‍वास दिलाना कि पूरा देश उनके साथ खड़ा है, काफी मायने रखता है। पीएम मोदी का वहां पर जाना, सैनिकों से बात करना और मौजूदा हालातों का जायजा लेना सेना पर 150 करोड़ लोगों के विश्‍वास को जताता है। उनके मुताबिक किसी भी लड़ाई में ये बात बेहद मायने रखती है कि हमारा नेतृत्‍व कौन कर रहा है। उन्‍होंने 1965 में पाकिस्‍तान से हुई लड़ाई का जिक्र करते हुए बताया कि उस वक्‍त दुश्‍मन देश के पास हमसे बेहतर लड़ाकू विमान और टैंक थे। लेकिन इसके बाद भी उन्‍हें भारत की सेना के सामने घुटने टेकने पड़े थे। जैसे उस वक्‍त एक अच्‍छे नेतृत्‍व ने सेना का हौसला बढ़ाया था ठीक वही काम अब पीएम मोदी ने भी किया है।