रेत ठेके बंद होने से बेलखेड़ा गुंडागर्दी, फायरिंग, वाहनों में तोडफ़ोड़ - Bhaskar Crime

Breaking

रेत ठेके बंद होने से बेलखेड़ा गुंडागर्दी, फायरिंग, वाहनों में तोडफ़ोड़

           

जबलपुर. घाटों पर रेत ठेके बंद होने के बावजूद बेलखेड़ा के कूड़ाकला गांव में चल रहे रेत खनन के विवाद में दो गुट रविवार रात आमने-सामने आ गए। पूर्व विधायक प्रतिभा सिंह के बेटे गोलू सिंह ने अपने 60-70 समर्थकों के साथ गांव में तांडव मचाया। मारपीट करते हुए कई राउंड फायरिंग की। आक्रोशित गांववालों ने भी गोलू सिंह व समर्थकों पर पथराव किया। दो राइफल व पिस्टल छीन ली। एक आरोपी को ग्रामीणों ने दबोच लिया। विवाद की सूचना पर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा सहित 200 का बल मौके पर पहुंचा।
एसपी बहुगुणा के अनुसार फायरिंग में कूड़ाकला गांव के आशीष सिंह के हाथ में गोली लगी है। मारपीट में राजकुमार सिंह, प्रशांत सिंह, ऋषि राजपूत, रॉकी राजपूत, लाल सिंह राजपूत घायल हुए हैं। घायलों की ओर से आरोपियों में गोलू सिंह, कमलेश भुर्रक, महेंद्र, मोनू टिनगुरिया सहित 60-70 लोगों के खिलाफ बलवा, हत्या के प्रयास सहित विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कराया है।
पूर्व विधायक के बेटे और समर्थकों ने की गुंडागर्दी, फायरिंग, वाहनों में तोडफ़ोड़

(बेलखेड़ा के कूड़ाकला गांव का मामला, छह घायल, पुलिस छावनी में तब्दील हुआ गांव, एसपी ने सम्भाला मोर्चा)
एक महीने पहले से चल रही वर्चस्व की
जोर-आजमाइश-
बेलखेड़ा-शहपुरा में रेत खनन को लेकर एक महीने से राजनीतिक वर्चस्व स्थापित करने की जोर-आजमाइश चल रही है। नौ जून को शहपुरा सहित बरगी क्षेत्र में नरसिंहपुर जिले के भाजपा विधायक जालम सिंह पटेल के बेटे मोनू सिंह ने समर्थकों के साथ वाहन रैली निकाल कर ताकत दिखाई थी। इसके अगले दिन पूर्व विधायक प्रतिभा सिंह के बेटे नीरज सिंह ने वाहन रैली निकाली थी। इस मामले में शहपुरा थाने में पुलिस ने धारा 144 के उल्लंघन पर धारा 188 का प्रकरण दर्ज किया था। लेकिन प्रभावी कार्रवाई नहीं की गई।

भारी पुलिस बल की मौजूदगी में पूछताछ-
वारदात के बाद गांव में पहुंचे एसपी सहित पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में देर रात तक एक-एक ग्रामीण से वारदात के सम्बंध में बयान लिए गए। आरोपियों की धरपकड़ के लिए भी क्राइम ब्रांच सहित अन्य टीमें लगाई गई हैं। मामला राजनीतिक रसूख का है, इस कारण दूसरे पक्ष से भी शिकायत दर्ज कराने की कवायद शुरू हो गई है।

रेत खनन को लेकर कई दिन से माहौल गर्म था
जिला मुख्यालय से 40 किमी दूर बेलखेड़ा के कूड़ाकला गांव में नर्मदा का रेत घाट है। इस गांव के लोग भी रेत खनन व परिवहन करते हैं। गांव के स्कूल के पास लगभग 400 डम्पर रेत डम्प है। इसके अलावा यहां बारिश में भी रेत निकासी के लिए पोकलेन मशीन लगाई गई थी। कूड़ाकला गांव के लोग इसका विरोध कर रहे थे। वे भी रेत परिवहन में अपने वाहन लगाना चाहते थे। इसी को लेकर पूर्व विधायक प्रतिभा सिंह के बेटे गोलू सिंह और ग्रामीणों के बीच कई दिनों से टसल चल रही थी। इसकी सूचना गांव वालों ने स्थानीय थाना प्रभारी, एसडीओपी से लेकर एएसपी व एसपी को दी थी।
ग्रामीणों के मुताबिक गोलू रविवार रात 8.30 बजे 25 चारपहिया वाहनों में 60 से 70 समर्थकों के साथ कूड़ाकला गांव पहुंचा। सभी बंदूक, रायफल, पिस्टल, लाठी-डंडे से लैस थे। गोलू और उनके समर्थकों ने लगभग डेढ़ घंटे तक गांव में तांडव मचाया। फायरिंग व मारपीट के चलते गांव के कई लोग घरों में दुबक गए। हालात हद से ज्यादा बिगड़ गए, तब ग्रामीणों का आक्रोश फूटा।

छतों से किया पथराव, तब भागे आरोपी-
फायरिंग और मारपीट में गांव के आशीष सिंह, राजकुमार, प्रशांत सिंह, ऋषि राजपूत, रॉकी राजपूत, लाल सिंह राजपूत के घायल होने के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए। इसके बाद महिलाएं, बच्चे सहित पूरे गांव के लोगों ने छत और अन्य रास्तों से हमलावरों पर पथराव कर दिया। मौके पर आरोपी वाहन एमपी 20 सीएच 6267, एमपी 19 सीए 7462 सहित चार चाहन छोडकऱ भागे। ग्रामीणों ने गोलू सिंह से रायफल छीन ली।

70 राउंड से अधिक फायर-
ग्रामीणों का दावा है कि गोलू और समर्थकों ने 70 राउंड से अधिक फायर किए। गांव में जगह-जगह कारतूस और खोखे बिखरे थे। इस दौरान आरोपियों ने ग्रामीणों के ट्रैक्टर सहित कई वाहनों में तोडफ़ोड़ की। पथराव में गोलू सिंह और उसके समर्थकों में भी कुछ के घायल होने की बात कही जा रही है। हालांकि कोई घायल देर रात तक सामने नहीं आया था।

बेलखेड़ा में भी पुलिस बल तैनात-
फायरिंग, बलवा की खबर पाकर पहले एएसपी ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल, एसडीओपी पाटन देवी सिंह, शहपुरा, बेलखेड़ा, कटंगी, भेड़ाघाट, तिलवारा, पाटन की पुलिस मौके पर पहुंची। इसके बाद एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा खुद टीआई ओमती, सिविल लाइंस, बेलबाग और लाइन का बल लेकर ब्रज वाहन के साथ रात 11.00 बजे गांव में पहुंचे। कूड़ाकला गांव से लेकर बेलखेड़ा में पुलिस बल तैनात किया गया है। रेत खनन को लेकर कई दिनों से विवाद की सुगबुगाहट थी। शहपुरा, बेलखेड़ा के थाना प्रभारियों के हटाए जाने के बाद से ही रेत माफिया हावी हो गए थे।

एस पी जबलपुर ने बताया कि
पूरे प्रकरण में ग्रामीणों से बातचीत कर हालात की जानकारी ली जा रही है। गोलू सिंह सहित अन्य की ओर से गांव में मारपीट-फायरिंग व तोडफ़ोड़ की है