कलेक्टर ने जिला अस्पताल का भ्रमण कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते व्यवस्था करने के निर्देश - Bhaskar Crime

Breaking

कलेक्टर ने जिला अस्पताल का भ्रमण कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते व्यवस्था करने के निर्देश

जबलपुर  कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने आज शाम जिला अस्पताल पहुंचकर यहां कोरोना मरीजों के उपचार की व्यवस्था का जायजा लिया तथा कोरोना संदिग्ध वार्ड सहित अस्पताल के विभिन्न वार्डों का निरीक्षण किया

        कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला अस्पताल में अतिरिक्त व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए हैं। 

उन्होंने अस्पताल के कोरोना संदिग्ध मरीजों के लिए बनाए गए सस्पेक्टेड वार्ड का निरीक्षण भी किया और सस्पेक्टेड वार्ड को पॉजिटिव वार्ड बनाने तथा नर्सेज होस्टल में कोरोना संदिग्ध मरीजों को भर्ती कर उपचार करने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने जिला अस्पताल में उपचार कराने आये कोरोना के लक्षण वाले हर मरीज को सस्पेक्टेड वार्ड में भर्ती करने तथा सेम्पल लिए बगैर तत्काल उसका उपचार प्रारंभ करने के भी निर्देश दिये। श्री शर्मा ने अस्पताल में कोरोना मरीजों के उपचार की क्षमता तथा आक्सीजन सपोर्ट वाले बिस्तरों की संख्या का ब्यौरा भी लिया। इस दौरान कलेक्टर के साथ सीएमएचओ डॉ. रत्नेश कुररिया एवं सिविल सर्जन डा. सीवी अरोरा सहित अन्य चिकित्सा अधिकारी भी मौजूद थे।
फीवर क्लीनिक का किया निरीक्षण
कलेक्टर श्री शर्मा ने जिला अस्पताल के भ्रमण के दौरान यहां स्थित फीवर क्लीनिक का निरीक्षण भी किया तथा सामान्य रोगों से पीडि़त एवं कोरोना के लक्षण वाले मरीजों की मिक्सिंग न हो इसके लिए ज्यादा सतर्कता बरतने की हिदायत भी दी। श्री शर्मा ने पॉजीटिव वार्ड तक आने-जाने वाले मार्ग की बेरीकेटिंग करने तथा दूसरे रोगों की ओपीडी से इसे अलग करने के लिए पार्टीशन की व्यवस्था करने के निर्देश भी दिये।
कलेक्टर ने इस अवसर पर सस्पेक्टेड वार्ड में भर्ती हर कोरोना संदिग्ध के सेम्पल लेने के निर्देश भी दिये। साथ ही संक्रमित मिले मरीज को पॉजीटिव वार्ड में शिफ्ट करने और निगेटिव रिपोर्ट वाले मरीज को घर में कम से कम एक सप्ताह तक क्वारेंटाइन रहने की सलाह देकर डिस्चार्ज करने कहा। उन्होंने होम क्वारंटीन में रहने वाले लोगों की मानिटरिंग की व्यवस्था करने के निर्देश भी दिये।
होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की मानीटरिंग व्यवस्था को मजबूत बनाएं
कलेक्टर ने जिला अस्पताल के निरीक्षण के दौरान होम आइसोलेशन में रह रहे बिना लक्षणों वाले कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मानीटरिंग व्यवस्था को और मजबूत बनाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कोरोना कंट्रोल रूम से प्रतिदिन वीडियो कॉलिंग के जरिए से होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के स्वास्थ्य पर नजर रखने की हिदायत दी। श्री शर्मा ने 60 वर्ष से अधिक उम्र के और अन्य रोगों से ग्रसित प्रत्येक कोरोना मरीज को कोविड हॉस्पिटल में ही भर्ती करने निर्देश दिये।
फीवर क्लीनिक में हो कोरोना संदिग्ध हर रेपिड़ एंटीजन टेस्ट
कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा ने विक्टोरिया सहित जिले में स्थित सभी फीवर क्लीनिकों में कोरोना के संदिग्ध लक्षण वाले प्रत्येक मरीज का रेपिड एंटीजन टेस्ट करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने इसके लिए शहरी और ग्रामीण छात्रों के सभी फीवर क्लीनिकों में पर्याप्त संख्या में रेपिड एंटीजन टेस्ट किट उपलब्ध कराने पर जोर दिया। श्री शर्मा ने कहा कि रेपिड एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव मिले मरीजों की तत्काल शिफ्टिंग की व्यवस्था भी की जाये।
सेम्पल साइज बढ़ाने के निर्देश
कलेक्टर श्री शर्मा ने विक्टोरिया अस्पताल के भ्रमण के बाद सीएमएचओ ऑफिस में चिकित्सा अधिकारियों की बैठक भी ली और कोरोना के प्रसार पर प्रभावी नियंत्रण के लिए सेम्पल साइज बढ़ाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि आईसीएमआर की गाईड लाईन के अनुसार कोरोना पॉजिटिव के निकट संपर्क में आये व्यक्तियों के साथ-साथ दूसरे रोगों से ग्रसित हर कोरोना संदिग्ध व्यक्ति के सेम्पल लिये जाएं। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में भी सेम्पल की संख्या बढ़ाने के निर्देश बैठक में दिये। उन्होंने कहा कि सांस लेने में तकलीफ वाले हर मरीज को तत्काल अस्पताल या प्राथमिक स्वास्थ्य वार्ड में भर्ती कर सेम्पल लिए बिना आक्सीजन सपोर्ट तथा दवाईयां देकर उपचार प्रारंभ किया जाना चाहिए। ताकि बाद में होने वाली कठिनाईयों से बचा जा सके। श्री शर्मा ने बैठक में कोरोना सेम्पल लेने वाले दलों की संख्या भी दोगुनी करने के निर्देश इस मौके पर दिये तथा ऐसे हर व्यक्ति का डेटा सार्थक एप पर दर्ज करने की हिदायत दी, जिनके सेम्पल लिए गए हैं।