कलेक्टर- कोविड संक्रमण का फैलाव न हो, शासन की प्राथमिकताओं के लिये सहयोग एवं समन्वय से कार्य करें - Bhaskar Crime

Breaking

कलेक्टर- कोविड संक्रमण का फैलाव न हो, शासन की प्राथमिकताओं के लिये सहयोग एवं समन्वय से कार्य करें

जबलपुर/कलेक्टर कर्मवीर शर्मा के अध्यक्षता में आज लंबित पत्रों की समीक्षा बैठक कलेक्टर सभागार में संपन्न हुई 

उन्होंने सभी एसडीएम से कहा कि वे फीवर क्लिनिक व कोविड सेंटर का विजिट करें और अपने अपने क्षेत्र में कोविड नियंत्रण की दिशा में वे लीडरशिप ले
बैठक में उन्होंने अधिकारियों से कहा कि फील्डस्तर के समस्याओं का  सक्रियता से निराकरण करें। उन्होंने राजस्व संबंधी समस्याओं के साथ स्ट्रीट वेंडर योजना, फूड व सिविल सप्लाई के साथ वनाधिकार पट्टे की समीक्षा की। बैठक के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री प्रियंक मिश्र, अपर कलेक्टर श्री संदीप जी आर, श्रीहर्ष दीक्षित सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
कोरोना को लेकर स्वास्थ्य विभाग की बैठक
लंबित पत्रों की समीक्षा के पहले कलेक्टर श्री शर्मा ने सभी ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर रैपिड रिस्पांस टीम और मेडिकल मोबाइल यूनिट की बैठक लेकर कोरोना वायरस के रोकथाम व संक्रमण से बचाव की कार्ययोजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी
इस दौरान उन्होंने वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए प्राथमिकताएं बतायी और उनका निराकरण करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि अधिकारियों के बीच तथा  फील्ड स्तर पर समन्वय और सहयोग बना रहे। सहयोग और समन्वय के साथ दायित्वों का निर्वहन जिम्मेदारी से करें ।विभागीय अधिकारी अपने अमले के साथ समय-समय पर बैठक करते रहे। शासन की प्राथमिकताओं के मुताबिक काम करें। सभी अधिकारी अपने काम का मूल्यांकन प्रतिदिन करें।
लंबित पत्रों के साथ सीएम हेल्पलाइन के प्रकरण को संवेदनशीलता के साथ निराकरण करने के निर्देश दिए और कहा कि कोई प्रकरण लंबित ना रहे। उन्होंने कहा कि कोविड से लड़ाई  में सभी का सहयोग जरूरी है। पिछले कुछ दिनों से ज्यादा केस आए हैं यह चिंता का विषय है अतः उन्होंने कोविड-19 के रोकथाम के लिए भावी रणनीति के बारे में बताया और कहा कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना संदिग्धों की पहचान कर पर्याप्तं सैंपल प्रतिदिन ले। कंटेनमेंट एरिया में नियमों का पालन सख्ती से करें और इस संबंध में उन्होंने कहा कि कोविड का फैलाव ना हो इस पर विशेष ध्यान देना है। साथ ही, यह पहली प्राथमिकता है कि किसी कोविड पेशेंट की मृत्यु न हो अगर कहीं कोविड पेशेंट की मृत्यु होती है तो इसे गंभीरता से लिया जायेगा। श्री शर्मा ने कहा कि सबसे पहले कोरोना संक्रमित व्यक्ति की पहचान करें उसका आइसोलेशन करें, फिर ट्रीटमेंट। इस पद्धति से कोविड-19 की दिशा में बेहतर काम हो सकता है।

इस दौरान उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में कोविड संक्रमण का फैलाव न हो, इसलिए इस दिशा में गंभीरता से काम करें। लोगों की पहचान करें, उन्हें आइसोलेशन करें और  ट्रीटमेंट करें। श्री शर्मा ने कहा कि लोगों की जान  बचाना ही पहली प्राथमिकता है अतः किसी कोविड-19 पेशेंट की मृत्यु न हो। अगर किसी कोविड पेशेंट की मृत्यु होती है तो गंभीरता से जांच की जाएगी। इस दौरान उन्होंने सैंपल व डाटा एंट्री पर भी जोर दिया।