स्वास्तिक अस्पताल में सीजीएचएस का छापा मरीजों से वसूली करने वाले अस्पतालों की मान्यता खत्म की जाए - Bhaskar Crime

Breaking

स्वास्तिक अस्पताल में सीजीएचएस का छापा मरीजों से वसूली करने वाले अस्पतालों की मान्यता खत्म की जाए

सीजीएचएस का छापा स्वास्तिक अस्पताल में
कोरोना संकट के दौरान निजी अस्पताल संचालक सीजीएचएस मरीजों को भी नहीं छोड़ रहे हैं

जबलपुर  कोरोना संकट के दौरान निजी अस्पताल संचालक सीजीएचएस मरीजों को भी नहीं छोड़ रहे हैं। उनका इलाज सीजीएचएस सुविधा के तहत कैशलैस करने की बजाय एडवांस में राशि जमा कराई जा रही थी। खास बात यह है कि सीजीएचएस के स्थानीय अधिकारी भी कर्मचारियों की इस समस्या को गंभीरता से नहीं ले रहे थे। लेकिन जब शिकायत दिल्ली पहुँची तब स्थानीय प्रबंधन भी चेता और गुरुवार को आईटीआई स्थित स्वास्तिक अस्पताल में दबिश दी गई।
टीम में शामिल डॉ. झारिया, डॉ. प्रवीण और कार्यालय अधीक्षक शिवलाल द्वारा जाँच की गई तो वहाँ भर्ती सीजीएचएस के मरीज गुरुमोहन सिंह सबरवाल से 50 हजार रुपए एडवांस जमा कराए गए थे। इसके अलावा 20 हजार रुपये की दवाएँ भी खरीदवाई गईं थीं। जाँच दल ने मरीज के पैसे वापस करने के आदेश अस्पताल प्रबंधन को दिए हैं।

                *समाप्त की जाए मान्यता*
इस मामले को लेकर लड़ाई लड़ रहे सिटीजन वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष सुभाष चंद्रा, कुँवर सिंह, एसपी त्यागी ने बताया कि हम लंबे समय से अस्पतालों द्वारा वसूली की शिकायत कर रहे थे, लेकिन स्थानीय स्तर पर अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे थे।
ऐसे में एसोसिएशन द्वारा दिल्ली में डिप्टी डायरेक्टर जनरल डॉ. जीडी पलिया से शिकायत की गई थी, वहाँ से निर्देश मिलने के बाद कार्रवाई की गई। कार्रवाई के दौरान एसोसिएशन के पदाधिकारी भी मौजूद रहे और सीजीएचएस प्रबंधन से माँग की गई है कि इस तरह की वसूली करने वाले अस्पतालों की सीजीएचएस मान्यता खत्म की जाए।