अधिवक्ता संघ द्वारा ज्ञापन डॉक्टर एवं अस्पताल प्रशसान पर वैधानिक कार्यवाही किया जाए एवं मुफ्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाये - Bhaskar Crime

Breaking

अधिवक्ता संघ द्वारा ज्ञापन डॉक्टर एवं अस्पताल प्रशसान पर वैधानिक कार्यवाही किया जाए एवं मुफ्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाये

जबलपुर /अधिवक्ता संघ द्वारा कलेक्टर और एसपी को ज्ञापन सौंपकर कोरोना महामारी के अधिवक्ताओं व उनके परिजनों के होने वालों संक्रमण एवं उनके इलाज की सुमचित व्यवस्था एवं इलाज में लापरवाही कर डॉक्टर एवं अस्पताल प्रशसान पर वैधानिक कार्यवाही  किया जाए कोविड 19 कोरोना महामारी के वैश्विक चक्र में जबलपुर जिला ही नहीं अपितु भारत वर्ष के अधिवक्ता समुदाय अत्यंत कठिन आर्थिक एवं मानसिक कष्ट से गुजर रहा है
इस महामारी के चलते लगभग 6 माह से काम -काज बंद पड़ा है क्योंकि चाहे जिला न्यायालय हो, तहसील हो, या उच्च न्यायालय हो कही पर भी पूर्णतः सुचारू रूप से न्यायालय विधिक कार्य  सम्पन्न नहीं हो रहे है,

इसके बावजूद जब कोरोना बीमारी आज महामारी का रूप ले चुकी है लगभग 6 माह हो चुके है इस बीमारी को भारत में प्रवेश किये हुये इसके बावजूद आज तक शासन के द्वारा इस बीमारी के इलाज को लेकर पूर्ण प्रतिबद्धता के साथ कार्य नहीं किया जा रहा है जबलपुर जैसे महानगर में इस वैश्विक महामारी के कारण लगातार मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही है और जिसके कारण मृत्यु दर में तीव्रता के साथ वृद्धि हो रही है पूर्व में भी जिला अधिवक्ता संघ जबलपुर के द्वारा माननीय कलेक्टर  एसपी को एक ज्ञापन के माध्यम से सुझाव और शिकायतें प्रस्तुत की गई थी जिसके संबंध में कलेक्टर साहब के द्वारा संज्ञान लेते हुये त्वरित कार्यवाही किये जाने का भरोसा दिलाया था पूर्व में हमारे द्वारा कलेक्टर महोदय जी को तथा गया था कि हमारे सदस्य श्री रंजीत सिंह ठाकुर इस बीमारी के कारण मृत्यु हो चुकी है और अधिवक्ता परिवार की सैकड़ों लोग अस्पताल में इलाजरत् है उनके प्रति संवेदना शीलता
का परिचय देते हुये इलाज की व्यवस्था सुचारू रूप से की जाये परन्तु दुर्भाग्यवश प्रशासन के द्वारा शासकीय अस्पताल में इलाजरत् व्यक्तियों के साथ में संवेदनहीनता का परिचय दिया जा रहा है और इलाज में घोर लापरवाही बरती जा रही है अधिवक्ता साथी श्री विशाल यादव के पिता जी मेडिकल अस्पताल में कोविड 19 के कारण भर्ती हुये जहाँ उनके इलाज में उपस्थित डॉक्टरों के द्वारा घोर लापरवाही की गई भर्ती के साथ ही मरीज के परिजनों को आक्सीजन माक्स लेने भेजा उनके द्वारा आक्सीजन मास्क की व्यवस्था की गई तब जाकर उनको आक्सीजन लगाया गया उसके पश्चात् जब इलाज के संबंध में जानकारी प्राप्त की तब डॉक्टरों के द्वारा बताया कि रेम्डी सीवर इजेक्शन की आवश्यकता है इस इंजेक्शन के लिये परिजन पूरे शहर में भटकते रहे बड़ी मुश्किल में उनको इंजेक्शन प्राप्त हुआ उस इंजेक्शन को लेकर चिकित्सा को उपलब्ध कराया इसके बावजूद भी लगातार चिकित्सों के द्वारा इलाज में लगातार लापरवाही की जाती रही है और आखिरी में लापरवाही के कारण मरीज की जान चली गई ।
अतः कोविड वार्ड में इलाज के दौरान उपस्थित चिकित्सों के खिलाफ उचित वैधानिक कार्यवाही की जाये । ताकि भविष्य में लापरवाह चिकित्सक अपनी जवाबदारी के साथ में मरीजों का इलाज कर सकें। भोपाल में शासन के द्वारा की गई उसी तर्ज पर संक्रमित अधिवक्ताओं समाज के लिये मुफ्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाये एवं संक्रमित हो रहे अधिवक्ताओं के परिजन को 1,00,000/- रूपये की आर्थिक मदद तत्काल उपलब्ध कराये जाये, अन्यथा जिला अधिवक्ता संघ जबलपुर हा आन्दोलन का भी अभियान का प्रारंभ पूरे प्रदेश में अधिवक्ता के साथ मिलकर आंरभ करेंगा।