संभागायुक्त और कमिश्नर मेडिकल एजुकेशन,मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लायर्स की बैठक ली - Bhaskar Crime

Breaking

संभागायुक्त और कमिश्नर मेडिकल एजुकेशन,मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लायर्स की बैठक ली

जबलपुर/संभागायुक्त श्री महेश चंद्र चौधरी की अध्यक्षता में कमिश्नर मेडिकल एजुकेशन श्री निशांत वरबड़े और कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा ने मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लायर्स की बैठक की

                        सुखसागर का निरीक्षण
आयुक्त चिकित्सा शिक्षा श्री निशांत वरबड़े ने संभागीय कमिश्नर श्री महेश चंद्र चौधरी, कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा, जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन श्री प्रियंक मिश्र तथा अन्य संबंधित अधिकारियों के साथ सुख सागर मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण कर वहां पर कोविड चिकित्सा की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली और आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
कमिश्नर श्री वरबड़े ने कहा कि किसी भी स्थिति में ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित न हो। कोई भी पेशेंट की मृत्यु ऑक्सीजन के कमी के कारण न हो। उन्होंने कहा कि हर पेशेंट की जान बचाना हमारी पहली प्राथमिकता है अतः इसे ध्यान में रखते हुये मरीजों का उपचार करें। 
 कमिश्नर मेडिकल एजुकेशन श्री निशांत वरबड़े किसी भी स्थिति में ऑक्सीजन आपूर्ति
बाधित ना हो 
वर्तमान आवश्यकता से 5 गुना अधिक सिलेंडर की व्यवस्था अनिवार्य रूप से रखें। इस दौरान नये ऑक्सीजन प्लांट लगाने पर चर्चा करते हुए कहा कि इस दिशा में युवाओं को प्रोत्साहित करें। शासन-प्रशासन द्वारा आवश्यक सहयोग दिया जायेगा। कोविड पेशेंट के लगातार बढ़ने की प्रकृति को देखते हुये उन्होंने कहा कि उपलब्ध संसाधनों का बेहतर उपयोग कर मरीजों का उपचार करें। श्री वरबड़े ने कोविड के उपचार में मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल के टीम की लगनशीलता वह मेहनत की सराहना कर कहा कि आगे भी बेहतर काम अपेक्षित है।
उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि ऑक्सीजन सिलेंडर के खाली व भरे सिलेंडरों का हिसाब रखें और यह भी जानकारी रखें कि सिलेंडर कहां-कहां स्टोर हैं।
ऑक्सीजन गैस सप्लायर्स की बैठक के बाद उन्होंने अस्पताल प्रबंधन से मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में मेन पावर की आवश्यकता पर चर्चा करते हुए कहा कि मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में कितने मैन पावर की आवश्यकता है उसकी आपूर्ति स्थानीय स्तर से या राज्य स्तर की जावेगी। उन्होंने यह भी कहा कि आयुर्वेदिक, यूनानी और होम्योपैथी के जितने भी इंटर्नशिप करने वाले हैं उन्हें बुलाये और कोरोना की रोकथाम में उनके सेवायें ले यदि वे इस कोरोना आपदा काल मे नहीं आते हैं तो उनके मान्यता समाप्त करने की कार्यवाही करें। मेन पॉवर के संबंध में मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. प्रदीप कसार से विस्तृत जानकारी प्राप्त की गई साथ ही विभिन्न संकाय के एचओडी से भी इस संबंध में चर्चा कर आवश्यक कार्यवाही करने को कहा गया। बैठक के दौरान बढ़ते मरीजों को दृष्टिगत उनके बिस्तर व्यवस्था पर भी चर्चा कर आवश्यक चिकित्सकीय संसाधनों के बारे में जानकारी ली गई।