13 वर्षीय बालक आदित्य लांबा की अपहर्ताओं ने गला दबाकर हत्या कर दी सीएम ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए - Bhaskar Crime

Breaking

13 वर्षीय बालक आदित्य लांबा की अपहर्ताओं ने गला दबाकर हत्या कर दी सीएम ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए

*सीएम ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए*

चौहान ने जबलपुर में नाबालिग की हत्या के मामले में भी कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। चौहान ने कहा कि ऐसे अपराधियों को समाप्त करने के लिए प्रभावी कार्रवाई हो। किसी भी दोषी को न बख्शा जाए। एडीजी इंटेलिजेंस आदर्श कटियार ने बताया कि इस मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। विस्तृत जांच की जा रही है।

8 लाख फिरौती लेने के बाद भी कर दी बच्चे की हत्या, नहर में मिला शव...जबलपुर के आदित्य लांबा अपहरण मामले में तीन आरोपी पुलिस की गिरफ्त में, एक की तबियत बिगड़ने से मौत

जबलपुर  धनवंतरी नगर थाना क्षेत्र से 15 अक्टूबर को फिरौती के लिए अपहृत किए गए 13 वर्षीय बालक आदित्य लांबा की अपहर्ताओं ने गला दबाकर हत्या कर दी।

 पुलिस ने बीती देर रात अपहर्ताओं को दबोचा। पूछताछ के दौरान उन्होंने बालक की हत्या करना कबूल किया। आरोपियों की निशानदेही पर रविवार सुबह पनागर के पास नहर से बालक का शव बरामद किया गया।


     (जीवित अवस्था की फोटो आदित्य लाबा)

*पत्रकार वार्ता में एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि*

 कंट्रोल रूम लाए गए आरोपियों में मुख्य आरोपी राहुल विश्वकर्मा की तबियत बिगड़ने पर उसे मेडिकल में भर्ती कराया गया था जहां उसकी मौत हो गई। सूत्रों के अनुसार धनवंतरी नगर दुर्गा मंदिर के पास रहने वाले माइनिंग विस्फोटक का कारोबार करने वाले मुकेश लांबा के पुत्र आदित्य लांबा का अपहरण हो गया था। घटना के बाद अपहर्ताओं ने फोन लगाकर परिजनों से दो करोड़ की फिरौती माँगी थी। इस मामले में पुलिस लगातार अपहर्ताओं की निशानदेही में जुटी रही लेकिन नाकाम रही।

इस बीच सुराग लगने पर बीती रात पुलिस ने एक शराब दुकान के पास से राहुल उर्फ मोनू विश्वकर्मा, मलय राय व करण जग्गी महाराजपुर को नशे की हालत में पकड़ा और सघन पूछताछ की गयी। पूछताछ के बाद पुलिस ने सुबह जलगाँव नहर के पास से अपहृत बालक आदित्य उर्फ आदित्य लांबा का शव बरामद किया।


*मास्क हटने से आरोपी को पहचाना*


अपहरण के बाद बालक को कार से ले जाते समय एक आरोपी के चेहरे से मास्क गिर गया था, जिसके बाद बालक ने उसे पहचान लिया था और कहा कि अंकल आप तो मेरे घर आते थे, संभवत: पहचान होने के बाद दहशत में आए अपहर्ताओं ने अपनी पहचान छिपाने के लिए फिरौती की रकम मिलने के बाद बालक की हत्या कर दी।


*16 अक्टूबर को ही आरोपियों ने कर दी थी हत्या*


अपहरण कांड में आरोपियों द्वारा परिजनों को फोन किए जाने के बाद अपहृत बालक की सुरक्षित वापसी के लिए पुलिस अधिकारियों के निर्देश पर क्राइम ब्रांच की टीम द्वारा फिरौती की रकम 8 लाख रुपये पनागर मार्ग पर एक नाले में छोड़े गए थे। रकम छोड़ी जाने के बाद बालक की वापसी का इंतजार किया जाता रहा लेकिन वह नहीं लौटा। पूछताछ में आरोपियों ने अपहरण के दूसरे दिन 16 अक्टूबर को उसकी हत्या करना कबूल किया है।


*आरोपी का तोड़ा मकान*


आरोपी करण जग्गी का महाराजपुर स्थित मकान को तोड़ने एसडीएम अधारताल ऋषभ जैन, ननि के सहायक आयुक्त वेदप्रकाश चौधरी व अतिक्रमण अमला पहुँचा। टीम ने आरोपी के मकान का छज्जा सहित आधा घर तोड़ दिया है बाकी की कार्यवाही सोमवार को की जायेगी। एसडीएम ने बताया कि गली में मकान होने से जेसीबी अंदर पहुँच नहीं पा रही थी इससे कार्यवाही पूरी नहीं हो पाई। कार्यवाही से क्षेत्र में हड़कंप की स्थिति रही।