बैंकों ने लोन दरें कंपनियां दे रहीं ऑफर कोरोनाकाल में सुस्त पड़े - Bhaskar Crime

Breaking

बैंकों ने लोन दरें कंपनियां दे रहीं ऑफर कोरोनाकाल में सुस्त पड़े

  *ऑनलाइन लोन का विकल्प भी अपनाएं। इसमें बैंक कुछ अतिरिक्त छूट भी दे रही हैं।*

*प्रोसेसिंग फीस में मोल-भाव जरूर करें। कुछ बैंक फीस में छूट दे रही हैं*

 *वाहन बीमे के लिए ऑनलाइन जांच कर लें। अच्छी छूट मिल सकती है*


*वाहन लेने का सही मौका, बैंकों ने लोन दरें घटाईं, कंपनियां दे रहीं ऑफर*

कोरोनाकाल में सुस्त पड़े ऑटोमोबाइल कारोबार के नवरात्र से दीपावली के बीच चमकने की उम्मीद

जबलपुर   कोरोना संक्रमण काल में भोपाल का ऑटोमोबाइल सेक्टर बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। लाकडाउन के तीन महीने तक शोरूम बंद रहे थे तो वहीं जून-जुलाई में भी हालात नहीं सुधरे। अगस्त व सितंबर में जरूर कारोबार ने रफ्तार पकड़ी, लेकिन उतनी नहीं जितनी उम्मीद थी। हालांकि, अब त्योहारी सीजन में कार एवं मोटरसाइकिल अच्छी मात्रा में बिकने की उम्मीद है। पिछले साल नवरात्र से दीपावली के बीच भोपाल में करीब 13 हजार दोपहिया एवं साढ़े पांच हजार चारपहिया वाहन बिके थे। ऑटोमोबाइल कारोबारियों को उम्मीद है कि कोरोनाकाल में बैंक की घटी लोन दरें एवं ऑफर ग्राहकों को शोरूम तक खींच लाएंगे।


*ये ऑफर मिल रहे*


दो पहिया : बैंकों ने न सिर्फ लोन की दरें कम की हैं, बल्कि कंपनियां भी कम डाउन पेमेंट पर गाड़ी उपलब्ध करा रही हैं। कुछ मॉडलों पर 2800 से 4000 रुपये तक दाम कम किए हैं।

*चार पहिया :*

 ऑटो लोन की दरें कम होने से मासिक किस्त यानी ईएमआइ आठ से 10 फीसद तक कम हो जाएगी। एसयूवी सेगमेंट की मांग अधिक है। कुछ मॉडलों की आठ लाख रुपये तक कीमत होने से बिक्री बढ़ने की उम्मीद है।


*पिछले साल इतने बिके थे वाहन*


*13000 दो पहिया*


*5500 चार पहिया*


*ग्राहक पहले बैंकों में कर लें बात*


अभी विभिन्न बैंक 7.25 से लेकर 9.40 फीसद तक की दर से ऑटोमोबाइल लोन दे रही हैं। यदि आप कार फाइनेंस करा रहे हैं, तो पहले तीन-चार बैंकों में दरें जरूर पता लगा लें। दरअसल, ये बैंकों की बेसिक दरें हैं। अलग-अलग कारक इन दरों में बदलाव लाते हैं। ऐसे में ब्याज दरों में हर तरह का फायदा लेने का प्रयास करें।


*लोन के लिए उपयोगी बातें*


वाहन लोन के लिए सिविल स्कोर 750 पाइंट से ऊपर रखें। खासकर जब आप चारपहिया वाहन खरीद रहे हों। स्कोर कम हुआ तो ब्याज दर अधिक लगेगी और ईएमआइ भी बढ़ सकती है। बता दें कि सिविल स्कोर तीन अंकों की एक संख्या है। बैंक ग्राहक की इस पर आधारित एक रिपोर्ट बनती है, जो सिविल रिपोर्ट कहलाती है। इस रिपोर्ट में व्यक्ति के क्रेडिट कार्ड या लोन अकाउंट्स, उनके पेमेंट का स्टेटस और उन्हें चुकाने में बचे दिन का सिलसिलेवार उल्लेख होता है। यही स्कोर कर्ज की पात्रता दर्शाता है। सिविल स्कोर जितना ज्यादा होता है, लोन मिलने की संभावना उतनी बढ़ जाती है।




*आशीषपांडे,अध्यक्ष*ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन ने बताया कि*


बैंकों ने लोन की दरें घटाई हैं, जबकि वाहन कंपनियों ने भी रेट कम किए हैं। चारपहिया वाहन में एसयूवी सेगमेंट की मांग शहरी व ग्रामीण दोनों ही क्षेत्र के ग्राहकों में है, इसलिए नवरात्र से दीपावली के बीच अच्छे कारोबार की उम्मीद है।