बिना इजाजत की चल रही अबैध कोचिंग सेंटर, शासन प्रशासन से अनुमति नहीं, शिक्षा अधिकारी की मिलीभगत से - Bhaskar Crime

Breaking

बिना इजाजत की चल रही अबैध कोचिंग सेंटर, शासन प्रशासन से अनुमति नहीं, शिक्षा अधिकारी की मिलीभगत से

*खाना पूर्ति के लिए वीडियो बना कर,चुप्पी साधते वरिष्ठ शिक्षा अधिकारी*
*प्रशासन के बिना इजाजत की चल रही अबैध कोचिंग सेंटर*

भिण्ड जिले में अभी तक 957 कोरोना के मरीज पाये जा चुके है जिसमे 144 आज भी एक्टिव है जिसमे 07 की मृत्यु भी हो गई है जिले की स्थिति बिगड़ती जा रही है नगर दबोह में भी 10 से अधिक मरीज पाय जा चुके है लेकिन दबंग कोचिंग संचालक भोले भाले किसान के पुत्रो को पढ़ाने का लालच से अपनी निजी कमाई करने में लगे है फिलाल तो सूत्रों से माने तो ऐसा लगता है वरिष्ट अधिकारीयो के मार्गदर्शन में नगर में ये कोचिंग चलाई जा रही है 2 माह पहले एस.डी.एम शिक्षा विभाग के अधिकारियों लहार को जानकारी दी थी शोसल मीडिया के माध्यम से जिलाधीश महोदय तक पहुचाई गई थी लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नही की गई जिस दिन लहार से शिक्षा विभाग की टीम कार्यवाही करने के लिए आती है उसके एक दिन पहले ही नगर की कोचिंग सेन्टरों की 2 दिन की छुट्टियां हो जाती है 

*एस डी एम लहार को ठेंगा दिखाते अधिकारी*
सूत्रों की माने तो एस डी एम लहार द्वारा जानकारी मिली थी शिक्षा अधिकारियों को आदेश दे दिए है लेकिन शिक्षा अधिकारियों ने तहसील के मुखिया एस डी एम लहार के आदेश को ठेंगा दिखाते नजर आते है नगर में पदस्थ नायाब तहसीलदार भी कोचिंग सेन्टरों को अनदेखा कर संचालको के हौसले बुलंद करते नजर आ रहे है

*ब्लॉक शिक्षा अधिकारी ने बनाया था वीडियो*
अधिक जानकारी के लिए वता दे कि ब्लॉक शिक्षा अधिकारी द्वारा कुछ समय पहले खाना पूर्ति के लिए नगर की कोचिंग सेन्टरों का निरीक्षण किया गया था लेकिन कोचिंग सेंटर बंद मिले थे जिसके बाद एक दिन एक कोचिंग सेंटर को संचालित होते हुए पकड़ा था जिसका वीडियो बना कर वरिष्ट अधिकारी ने खाना पूर्ति कर ली थी अब आगे क्या कार्यवाही हुई आज तक कोई पता नही लगा पाया आखिर ये मामला को रातो रात रफा दफा कर दिया गया या वरिष्ठ अधिकारीयो महोदय का आशीर्बाद मिलने से पुनः कोचिंग संचालित होने लगी

*नोटिस भी नाम के लिए जारी किये गए थे*
आप सभी को बता दे नगर दबोह में शाश्कीय इंटर हाईस्कूल के प्राचार्य द्वारा नगर में संचालित कोचिंग सेंटरों के संचालको को नोटिस दिए गए थे जिसमे कुछ शाश्कीय शिक्षको को भी नॉटिस दिए गए थे लेकिन नोटिस दिए जाने के बाद कोई कार्यवाही नही की गई अधिक जानकारी के लिए वता दे नोटिस जान पहचान बाले शिक्षाको को नही दिए गए थे जिससे यह कहावत आज फिर सिद्ध हुई *सूरा बाटे रेवड़ी, चीन्ह चीन्ह के देय*

*भारत सरकार के नियम*
ग्रह मंत्रालय भारत सरकार की अनलॉक 04,05 की गाइडलाइन में कोचिंग संस्थानों को आगामी आदेश तक एवं बंद रखने का आदेश दिए गए थे अगर कोई इसका पालन नही करता है तो   आपदा अधिनियम 2005 के तहत धारा 188 और अन्य धाराओ में उसके खिलाफ कार्यवाही की जाए।