सीजेआइ बोबडे ने कहा-'देश की अदालतों में फिलहाल भौतिक सुनवाई संभव नहीं' - Bhaskar Crime

Breaking

सीजेआइ बोबडे ने कहा-'देश की अदालतों में फिलहाल भौतिक सुनवाई संभव नहीं'

सीजेआइ बोबडे ने कहा-'देश की अदालतों में फिलहाल भौतिक सुनवाई संभव नहीं'


रविवार कान्हा जाएंगें, जबलपुर  भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआइ) शरद अरविंद बोबडे ने कहा कि मध्य प्रदेश सहित देश की अदालतों में फिलहाल भौतिक सुनवाई संभव नहीं है। इस सिलसिले में मेडिकल बोर्ड व चिकित्सा विशेषज्ञों की ठोस सलाह मिलने के बाद ही विचार संभव है।

शनिवार को दोपहर 1.20 बजे सीजेआइ बोबडे का नई दिल्ली से फ्लाइट के जरिये जबलपुर आगमन हुआ। डुमना विमानतल में कुछ समय विश्राम के बाद उनका काफिला 2.30 बजे मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश संजय यादव के निवास पर पहुंचा। जहां मध्य प्रदेश हाई कोर्ट बार एसोसिएशन, जबलपुर के प्रतिनिधि मंडल ने उनका स्वागत किया। इसी दौरान बार पदाधिकारियों से अनौपचारिक बातचीत में उन्होंने उक्त बात कही

*महत्वपूर्ण मामलों की वीसी से सुनवाई जारी रहेगी*

सीजेआइ बोबडे ने मध्य प्रदेश हाई कोर्ट बार एसोसिएशन, जबलपुर के अध्यक्ष रमन पटेल, सचिव मनीष तिवारी, उपाध्यक्ष शंभुदयाल गुप्ता, कार्यकारिणी सदस्य प्रियंका मिश्रा व मनोज कुमार रजक से सौजन्य भेंट के दौरान साफ किया कि कोविड-19 के खतरे के महत्वपूर्ण मामलों की वीडियो कॉफ्रेंसिंग (वीसी) के जरिये सीमित सुनवाई जारी रहेगी।


*लोगों की जान की सुरक्षा जरूरी*

सीजेआइ बोबडे ने साफ किया कि कोर्ट खुलनीं चाहिए, यह मैं भी मानता हूं। ऐसा इसलिए भी क्योंकि विगत छह माह से जबलपुर सहित देश भर के वकीलों को हो रही तकलीफ से मुझे भी दुख है। इसके लिए व्यक्तिगत रूप से क्षमाप्रार्थी भी हूं, लेकिन कोविड-19 के खतरे के बीच अदालतें खुलने से अधिक महत्वपूर्ण लोगों की जान की सुरक्षा है।


*राज्यों में स्थिति का अवलोकन*

सीजेआइ बोबडे ने बार पदाधिकारियों के समक्ष वस्तुस्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि प्रत्येक हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश (सीजे) अपने-अपने राज्य में कोरोना संकट की स्थिति का गंभीरता से अवलोकन कर रहे हैं। मेडिकल बोर्ड, मौसम विज्ञानी सहित अन्य ओके करते हैं, तो चरणबद्घ तरीके से कोर्ट खोले जा सकते हैं।


*यहां से मिली दुआओं ने सीजेआइ बनाया*:

उन्होंने कहा कि जबलपुर मेरे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण शहर है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसी शहर में मैं मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बतौर पदस्थ रहने के बाद सुप्रीम कोर्ट जज नियुक्त हुआ। यहां से मिली दुआओं का ही असर है कि वर्तमान में भारत के प्रधान न्यायाधीश पद की जिम्मेदारी संभाल रहा हूं।


*हाई कोर्ट में स्वागत समारोह:*

शाम 4.50 बजे हाई कोर्ट सीजे के आवास से राजकीय अतिथि सीजेआइ का काफिला मध्य प्रदेश हाई कोर्ट परिसर के लिए रवाना हुआ। जहां उनके सम्मान में गरिमामय स्वागत समारोह आयोजित किया गया। इसके बाद सीजेआइ नर्मदा महाआरती में शामिल होने पुण्यसलिला नर्मदा के ग्वारीघाट-उमाघाट तट के लिए रवाना हो गए।


*रविवार कान्हा जाएंगें*

सीजेआइ रविवार को जबलपुर से मंडला जाएंगे, जहां कान्हा के बाघ देखेंगे। इसके बाद नागपुर के लिए रवाना हो जाएंगे।