मुख्यमंत्री कुर्सी का फैसला एक साथ 28 सीटों के उपचुनाव सत्ता का भविष्य तय करेंगे। - Bhaskar Crime

Breaking

मुख्यमंत्री कुर्सी का फैसला एक साथ 28 सीटों के उपचुनाव सत्ता का भविष्य तय करेंगे।

मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना अब से कुछ देर में, 


कई मंत्रियों का भविष्य दांव पर प्रत्याशियों की धड़कनें तेज

भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए ये उपचुनाव आसान नहीं

 12 मौजूदा मंत्रियों का भविष्य दांव  पर है

16 सालों में 31 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए

भोपाल। मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर कराए गए उपचुनाव की मतगणना मंगलवार को की जाएगी। नतीजों को लेकर प्रत्याशियों की धड़कनें भी तेज हो गई हैं। मतगणना सुबह आठ बजे से 19 जिला मुख्यालयों पर होगी। मतणगना के लिए ग्वालियर-भिंड और मुरैना में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किया गया है। उम्‍मीद की जा रही है कि दोपहर तक काफी कुछ रुझान सामने आ जाएगा। हालांकि अंतिम परिणाम आने में देर लग सकती है।

12 मौजूदा मंत्रियों का भविष्य दांव पर*

ईवीएम के साथ ही डाक मतपत्र गिने जाएंगे। इस बार 27 हजार उन मतदाताओं ने डाक मतपत्रों से मताधिकार का उपयोग किया जो 80 साल से अधिक आयु, निशक्तजन या कोरोना संक्रमित या संदिग्ध थे। इस उपचुनाव में 12 मौजूदा मंत्रियों का भविष्य दांव पर है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए 22 विधायकों में से 12 इस समय सरकार में मंत्री हैं, दो पूर्व मंत्री भी मैदान में हैं। मध्‍य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव के चुनाव काफी महत्‍वपूर्ण बन गए हैं।

*16 सालों में 31 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए*

मध्य प्रदेश में 2003 के विधानसभा चुनाव के बाद से 16 सालों में 31 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए पर यह पहला मौका है, जब एक साथ 28 सीटों के उपचुनाव सत्ता का भविष्य तय करेंगे।

उपचुनाव से जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कुर्सी का भविष्य तय होगा तो वहीं राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया का सियासी कद भी आज आने वाले नतीजों से तय हो जाएगा। भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए ये उपचुनाव आसान नहीं है। अब तक के उपचुनाव के परिणामों पर नजर दौड़ाएं तो भाजपा 19 और कांग्रेस 11 सीटों पर विजयी रही है। एक सीट पर समाजवादी पार्टी भी उपचुनाव जीती थी।