छात्रों के लिए अच्छी खबर 10वीं और 12वीं की कक्षाएं स्कूल दो शिफ्टों में लगेगी - Bhaskar Crime

Breaking

छात्रों के लिए अच्छी खबर 10वीं और 12वीं की कक्षाएं स्कूल दो शिफ्टों में लगेगी

 छात्रों के लिए अच्छी खबर: इसी सप्ताह से शुरू हो सकती हैं


जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक भी आयोजित की गई है

10वीं और 12वीं की कक्षाएं

स्कूल दो शिफ्टों में लगेगी और कोविड गाइड लाइन का पालन करना होगा।

ग्वालियर. कक्षा 9 से 12वीं तक की कक्षाओं में पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर यह हे कि स्कूलों में उनकी पढ़ाई जल्द ही शुरू होने वाली है। कक्षा 10वीं और 12वीं की कक्षाएं नियमित रूप से लगेंगी, जबकि कक्षा 9वीं और 11वीं के छात्रों की कक्षाएं सप्ताह में एक या दो दिन लगाई जाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी बीते दिनों दो सप्ताह में कक्षा 9 से 12 तक की कक्षाएं लगाने की बात कह चुके हैं।

इसके बाद जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक भी आयोजित की गई है। जिसमें विद्यालय खोले जाने की बात कही गई है। वहीं, सूत्रों के अनुसार विद्यालय में 14 दिसंबर से कक्षाएं शुरू होने की उम्मीद है। 14 दिसंबर से लगने वाली इन कक्षाओं में कोविड 19 की गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करने की बात भी प्राचार्य व अधिकारियों द्वारा कही जा रही है। विद्यार्थी और शिक्षक मास्क अनिवार्य रूप से लगाएंगे। साथ ही गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग होने के बाद बच्चों को सैनेटाइज किए जाने के साथ ही हाथ धुलाई के लिए भी व्यवस्था रखी जाएगी।


कोविड 19 के नियमों के तहत स्कूलों में लगने वाली कक्षाओं का संचालन कैसे किया जाना है। यह व्यवस्था स्कूल प्रबंधन को करना है। छात्रों के माध्यम से अभिभावकों को जागरुक किए जाने की मुहिम शुरू की जाएगी। जिससे रोको टोको अभियान पूरी तरह से सफल हो सके। स्कूलों में लगने वाली कक्षाओं के संचालन के दौरान स्कूलों में कैंटीन बंद रहेगी। प्रयोगशालाएं कोविड 19 के नियमों के पालने करते हुए खोली जाएंगी। इनमें सोशल डिस्टेसिंग का पालन किया जाएगा और अधिकारी इसकी मॉनिटरिंग करेंगे ताकि किसी भी प्रकार की लापरवाही न हो सके।


गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग होने के बाद मिलेगी एंट्री

विद्यालय में बच्चों के पहुंचने पर सबसे पहले गेट पर ही उनकी थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। अगर इनमें किसी भी छात्र को बुखार पाया जाता है तो उस बच्चे को स्कूल से वापस घर भेज दिया जाएगा। ऐसे बच्चों को स्कूल पहुंचने पर कक्षा में किसी भी तरह प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। प्रवेश करने वाले बच्चों के हाथों को सैनेटाइजेशन की व्यवस्था कराई जाएगी।