मध्य प्रदेश के चिकित्सा व्यवस्था को सुधारने के लिए आप पार्टी को ज्ञापन देने पर पुलिस ने रोका - Bhaskar Crime

Breaking

मध्य प्रदेश के चिकित्सा व्यवस्था को सुधारने के लिए आप पार्टी को ज्ञापन देने पर पुलिस ने रोका

शहडोल अभी तक 23 नवजात बच्चों की जान चली गई कहि न कही घोर लापरवाही हुई है

मध्यप्रदेश में चिकित्सकों की कमी है वह भी काम नहीं कर रहे हैं 

मध्य प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में डीन एवं जिला चिकित्सालय में एसडीएम को नियुक्त  करें 


आप पार्टियों की यह मांगे रही  मुख्यमंत्री से नहीं मिलने दी पुलिस

1,मध्य प्रदेश में चिकित्सा आयोग का गठन किया जाये।

2,मध्य प्रदेश के मेडिकल कॉलेज में आई,एस,एस, की नियुक्ति जाये।

3,जिला चिकित्सालय में एस,डी,एम,नियुक्त किया जाए

     


आज आप पार्टियों द्वारा मुख्यमंत्री से मिलने कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन सोपने हेतु  मुख्यमंत्री आगमन से पहले पुलिस ने आम पार्टी केे कार्यकर्ता को मिलने से रोका  मध्यप्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था  को लेकर आप पार्टी ने आरोप लगाया अधिक चरम पर भ्रष्टाचार  है मध्य प्रदेश की जनता को जो स्वास्थ्य सुविधा मिलनी चाहिए वह सुविधा नहीं मिल रही है 

वर्तमान में शहडोल अभी तक 23 नवजात बच्चों की जान चली गई कहि न कही घोर लापरवाही हुई है। अभी भी यह सिलसिला रुक नही रहा मात्र 2 दिन पहले सागर मेडिकल कालेज में चरम पर लापरवाही सामने आई इसका पूरा दोष निश्चित ही कहीं ना कहीं अस्पताल के प्रम्बधक की लापरवाही की वजह से इतनी बड़ी घटना घटी रही है। इसी प्रकार मध्य प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में भी चरम पर समय समय पर बड़ी  लापरवाही देखने को मिलती है। मेडिकल कालेज में डीन पद की प्रतिनयुक्ति होती है वही के वरिष्ठ चिकित्सक की होती है वह चिकित्सक अस्पताल में कई वर्षों वही काम करते रहे  जिसके कारण अस्पताल के प्रम्बधक में घोर लापरवाही सामने आती है जिसके कारण न चिकित्सक न ही अस्पताल के कर्मचारियों पर कठोर कार्यवाही नहीं होती जिसकी भरपाई प्रदेश के मरीजों को भुगतना पड़ता है।


महोदय ठीक इसी प्रकार जिला चिकित्सालय में भी मुख्य चिकित्सा अधिकारी नियुक्त जिले में कई वर्षों से कार्य को ही नियुक्त किया जाता है इसी प्रकार जिले के असपतालो में घोर लापरवाही दिखाई पड़ती है कई मरीजों की लापरवाही के कारण चली जाती।

समय पर मेडिकल कॉलेज या जिला चिकित्सालय दोषियों पर नाम मात्र के लिए दिखाबे की कार्यवाही होती सिर्फ नोटिस दे दिया जाता है। वैसे भी मध्यप्रदेश में चिकित्सकों की कमी है वह भी काम नहीं कर रहे हैं समय पर आसप्तालो में उपलब्ध नही रहते। मगर सरकार से मिलने वाली सारी सुविधएं अवश्य ली जाती।

मध्य प्रदेश के चिकित्सा व्यवस्था को सुधारने के लिए जबलपुर मध्य प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में डीन के पद पर आई,ए,एस (प्रम्बधक) नियुक्त किया जाए 

जिला चिकित्सालय में मुख्य चिकित्सा अधिकारी की जगह जगह एसडीएम (प्रम्बधक) नियुक्त किया जाए।

 जिले में चिकित्सा सुधार समिति का गठन किया जाए मध्यप्रदेश में चिकित्सा आयोग का गठन किया जाए ताकि मध्य प्रदेश की जनता को व्यवस्थित स्वास्थ्य सुविधाएं मिले जिसके कारण लोगों की जाने समय तो बच सके।