मिलीभगत द्वारा फर्जी दस्तावेज के आधार पर जमीन नाम दर्ज किया जमीन की धोखाधड़ी - Bhaskar Crime

Breaking

मिलीभगत द्वारा फर्जी दस्तावेज के आधार पर जमीन नाम दर्ज किया जमीन की धोखाधड़ी

 जबलपुर एसपी कार्यालय में पीड़ित परिवार और बुजुर्ग के साथ शिकायत लेकर पहुंची

 एडिशनल एसपी ग्रामीण को  फर्जी दस्तावेज जांच के लिए शिकायत दिया


 जमीन की धोखाधड़ी  और छल कपट मिलीभगत द्वारा फर्जी दस्तावेज  के आधार पर  जमीन नाम  दर्ज किया 

पूर्व सरपंच सुरेश विश्वकर्मा एवंं पूर्व सचिव बबलू पटेल  और पटवारी  धुर्वे ग्राम सोहड  बरगी सुखदेव गॉड रविकांत सिंह तारा देवी सिंह

जबलपुर  बरगी  ग्राम सोहर  निवासी परसाद गौड पिता स्व० रामलाल गौड उन्न-80 वर्ष ग्राम, बरबटी रानी दुर्गावती समाधि रोड में वर्तमान में निवास कर रहा हैॅ यह कि मेरी जमीन जिसका खसरा नंबर- 274. रकवा- 1.4000 हे० लगभग पोगे बार एकर जमीन सोहर प080न0 Bहल्का सोहड रा०निम० बरमगी तहसील जबलपुर व जिला जबलपुर में स्थित है 

जिसमें मेरा वर्तमान में कब्जा है और जिसका में पूर्व में मालिक स्वामी या सन 2008 में सुखदेव प्रसाद पिता, छिददीलाल निवासी-काकरखेडा तहसील पाटन जिला-जबलपुर के द्वारा छलकपट कर धोखाडी कर रविकांत सिंह तारादेवी सिंह एवं पुवं सर पच सचिव बदब पटेल पूर्व पटवारी धुर्वे ग्राम सोहड बरगी जबलपुर साथ मिलकर मेरे साथ धोखाधड़ी छलकपट मिलीभगत व फर्जी दस्तावेज के आधार इन सभी में ग्राम सभा के प्रकरण क्र0 7 आदेश दिनांक 6/10/2008 को मेरी जमीन सुखदेव गौर के नाम से दर्ज करा दी मैनें सुखदेव प्रसाद को अपनी जमीन विक्रय नही किया था और ना ही कोई प्रतिफल व राशि सुखदेव प्रसाद ने मुझे पूर्व में दिया था में सुखदेव प्रसाद को जानता ही नहीं है और ना ही में उससे मिला हैं 


इन सभी के द्वारा मेरी जमीन गाम सभा से अपने नाम धोखे से दर्ज करवा ली है मैं अनुपढ़ व्यक्ति हैं और अगुवा लगाया ग्राम सभा में जब आदेश हुआ तो मुझे ना ही कोई नोटिस मिला और ना जानकारी मिली मेरे द्वारा रजिस्ट्री सुखदेव प्रसाद के पक्ष में नहीं की गयी भेरू नाथ सभी के द्वारा एक राय होकर मिलीभगत, घ्वलकपट कर धोखाधड़ी कर शासकीय अभिलेख सुखदेव प्रसाद का नाम दशक्कत करा दिया गया है

सुखदेव प्रसाद के पास कोई रजिस्ट्री ही नही है । सन्- 2008 में ग्राम सभा में आदेश होने के बाद 3 साल के बाद सन- 2008 में सुखदेव प्रसाद के द्वारा खसरों में अपना नाम दर्ज कराया सन- 2008 तक शासकीय खसरों में मेरा नाम दर्ज चला आ रहा था म राभा के आदेश दिनांक- 8/10/2006 फर्जी आदेश व कटरचित आदेश सुखदेव प्रसाद के द्वारा रविकांत सिंह तारादेवी सिंह, एवं पूर्व सरपंच सचिव बबलू पटेल पूर्व पटवारी पुर्वे ग्राम सोहर बरगी के साथ मिलकर मेरा नाम एवं शासकीय खसरी से काटकर सुखदेव प्रसाद का नाम दर्ज करा लिया गया एवं सुखदेव प्रसाद जो कि पढ़ा लिखा व्यक्ति एवं शिक्षक था पूर्व में रिटायर हो गया है उसके द्वारा जालसाजी कर रविकांत सिंह की माताजी तारादेवी सिंह पति, कृष्ण कुमार सिंह निवासी-एम.आई.जी. 25, केरला भवन हाऊसिंग बोर्ड कंटगा थाना- केट जबलपुर को विक्रय पत्र के माध्यम से विकय कर दिया वर्तमान खसरों में रविकांत सिंह का नाम आ रहा है क्योंकि रविकांत सिंह की माता जी तारादेवी का निधन हो चुका है सन-2008 से रविकांत सिंह और सुखदेव गौड ग्राम सोहड़ बरगी आते जाते थे और इन्हीं दोनों के द्वारा पूर्व संरपच ग्राम सोकडो किला एवं बबलू पटेल पूर्व पटवारी धुर्वे के द्वारा फर्जी दस्तावेज तैयार कर ग्राम सभा से फर्जी आदेश करवा लिया और घोखाघड़ी, छलकपट कर मेरी जमीन इन सभी लोग ने हड़प लिया है और मुझे चार माह पूर्व जब मैने अपना खसरा निकलवाया तो मुझे जानकारी मिली की मेरी जमीन पर रविकांत सिंह का नाम दर्ज हो गया है मैनें सन-2001 से 2020 तक खसरे निकलवाये तो मुझे मालूम चला कि सन-2006 में सुखदेव गौड़ ने ग्रामसभा से आदेश कराकर जमीन सन-2009 में अपने नाम दर्ज करा ली है और सुखदेव गौड़ ने भी मेरी जमीन रविकांत की माता जी श्री तारादेवी सिंह को विक्रय कर दी थी।उदय जी सुखदेव गौछ, रविकांत सिंह,तारादेवी सिंह, एवं पूर्व संरपर्च सूरखा रव सरथिव पटेूर्यपटवारी घुर्वे ग्राम. सोहर [बरगी जबलपुर के द्वारा मेरे साथ मेरी जमीन को हाय लिये और घोखाड़ी छलकपट व फर्जी दस्तावेज के आधार पर अपने नाम फरया लिया है क्योकि सुखदेव मौड़ की मैने रजिस्ट्री की ही नहीं है इन इनके विरूद्ध मामला दर्ज कर कारवाई किया जाए