पुलिस लाइन में लगाई जा रही पाठशाला में बच्चों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जा रही है - Bhaskar Crime

Breaking

पुलिस लाइन में लगाई जा रही पाठशाला में बच्चों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जा रही है

   पुलिस लाइन में शुरू किया गया है, पुलिस लाइन की पाठशाला में पढ़ रहे भावी अधिकारी_

पुलिस ने ऐसे बच्चों के लिए शिक्षा दान शुरू किया है जो प्रतियोगी परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं

 जबलपुर एसपी, सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया भविष्य में अधिकारी बन सकते हैं और उनकी जिंदगी संवर सकती है।


कोरोना योद्धा के वाट्सएप ग्रुप में निश्शुल्क प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कराने का मैसेज भेजा

बच्चों के पास यह समस्या होती है कि वे पढ़ना तो चाहते हैं, लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण पढ़ नहीं पाते। उनके लिए यह सेंटर पुलिस लाइन में शुरू किया गया है, ताकि वे अपना बेहतर भविष्य बना सकें।

 जबलपुर पुलिस ने शिक्षा दान का नवाचार शुरू किया है। पुलिस लाइन में लगाई जा रही पाठशाला में बच्चों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जा रही है। इसमें जो बच्चे पढ़ रहे हैं वे भविष्य में अधिकारी बन सकते हैं और उनकी जिंदगी संवर सकती है। खास बात यह है कि यहां रक्षित निरीक्षक (आरआइ), सूबेदार और आरक्षक ही शिक्षक हैं जो बच्चों को नई तकनीक के साथ प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करा रहे हैं।

इस तरह जुड़े बच्चे पुलिस लाइन आर आइ सौरभ तिवारी के मुताबिक पहले यह योजना बनी कि पुलिस विभाग के बच्चों को ही प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए पढ़ाया जाए। 

फिर सोचा गया कि जो बच्चे काबिल हैं और गरीब हैं, वे महंगी कोचिंग क्लासेस में नहीं जा सकते, उन्हें भी पढ़ाया जाए। यह तय होते ही सभी थाना प्रभारियों ने अपने ग्रुप में जुड़े कोरोना योद्धा के वाट्सएप ग्रुप में निश्शुल्क प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कराने का मैसेज भेजा। इससे दो दिन में ही 125 बच्चों ने संपर्क किया और वे क्लास से जुड़ गए।

इस तरह हो रही पढ़ाई आरक्षक, एसआइ, रेलवे और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में सामान्य ज्ञान का पेपर करीब-करीब एक जैसा ही आता है, इसलिए सामान्य ज्ञान और गणित पर अधिक जोर दिया जा रहा है। हॉल में बोर्ड, साउंड सिस्टम भी लगाए गए हैं।

वरिष्ठ अधिकारी भी करेंगे प्रोत्साहित एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा, एएसपी, डीएसपी और अन्य अधिकारियों ने भी निर्णय लिया है कि वे बच्चों को मोटिवेशनल स्पीच देंगे ताकि उनका हौसला बढ़े। जो बच्चे पुलिस विभाग में जाना चाहते हैं और उसकी तैयारी कर रहे हैं, उनको पढ़ाई के साथ पुलिस लाइन ग्राउंड में फिजिकल ट्रेनिंग भी दी जाएगी। इसकी ट्रेनिंग के लिए भी पुलिस विभाग से ही ट्रेनर नियुक्त किए गए हैं।