मुख्यमंत्री ने कहा मध्यप्रदेश में नहीं किया जाएगा लॉकडाउन - Bhaskar Crime

Breaking

मुख्यमंत्री ने कहा मध्यप्रदेश में नहीं किया जाएगा लॉकडाउन

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि सभी कलेक्टर्स अपने जिलों में कोरोना से बचाव के लिए जागरुकता अभियान चलाएं। 

इसके अंतर्गत 'रोको-टोको' की रणनीति अपनाई जाए। प्रत्येक व्यक्ति मास्क लगाए तथा एक-दूसरे के बीच पर्याप्त दूरी का पालन करें।


मप्र में नहीं किया जाएगा Lockdown : मुख्यमंत्री

महाराष्ट्र से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग अवश्य करें 

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार शाम को मंत्रालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग(Video Conferencing) के माध्यम से सभी जिलों में कोरोना (Corona) की स्थिति की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि कुछ दिनों से प्रदेश में कोरोना के प्रकरण बढ़ रहे हैं। ऐसे में कोरोना संबंधी सभी सावधानियां बरती जाए। मास्क (Mask) अनिवार्य रूप से लगाया जाए, फिजिकल डिस्टेंसिंग(Physical Distancing) रखी जाए, हाथ बार-बार धोएं, सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) रखें और थोड़े भी लक्षण होने पर तुरंत जांच कराकर इलाज लें। थोड़ी भी लापरवाही भारी पड़ सकती है।

60 वर्ष वालों को पहले लगेगा टीका -अपर मुख्य सचिव सुलेमान ने बताया कि भारत सरकार (Indian Government) के नए निर्णय अनुसार 60 वर्ष से अधिक उम्र वालों को कोरोना वैक्सीन पहले लगायी जाएगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों के मजदूर मजदूरी के लिए अन्य राज्यों में न जाएं, उन्हें मनरेगा के अंतर्गत गांव में ही रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। आर्थिक गतिविधियां प्रभावित न हों, इसके लिए प्रदेश में लॉकडाउन नहीं किया जाएगा। समीक्षा बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा आदि उपस्थित थे।

इंदौर, भोपाल, बैतूल में विशेष सावधानी रखें 
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि इंदौर, भोपाल, बैतूल, जबलपुर, छिंदवाड़ा आदि जिलों में कोरोना के प्रकरण बढ़ने से वहां विशेष सावधानी रखी जाए। इंदौर में 139, भोपाल में 70, बैतूल में 15, जबलपुर में 14 तथा छिंदवाड़ा में 9 नए प्रकरण आए हैं। इंदौर की पॉजिटिविटी रेट (Positivity Rate)6.6 प्रतिशत तथा भोपाल की 4.5 प्रतिशत है।

मेले स्थगित 
कोरोना के प्रकरण बढ़ने पर पचमढ़ी, बैतूल, छिंदवाड़ा आदि में लगने वाले मेले (Mela) स्थगित कर दिए गए हैं। साथ ही यहां सभी प्रकार की सावधानियां बरतने के निर्देश दिए गए हैं।

गांव में ही दिलवाये कार्य 
बालाघाट, सिवनी, बैतूल आदि सीमावर्ती जिलों से मजदूर रोज महाराष्ट्र कार्य के लिए जाते हैं। मनरेगा (MNREGA) में इन्हें गांव में ही कार्य दिलाए जाने के निर्देश मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने दिए।

महाराष्ट्र से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग अवश्य करें 
उन्होंने निर्देश दिए कि महाराष्ट्र से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग प्रदेश की सीमा पर अनिवार्य रूप से की जाए। कोविड निगेटिव(Covid Negative) व्यक्तियों को ही प्रदेश में प्रवेश दिया जाएगा।

प्रदेश में 2270 सक्रिय प्रकरण 
बताया गया कि प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरणों की संख्या 2270 हो गई है। प्रदेश में कोरोना के नए 344 प्रकरण आए हैं, वहीं 223 मरीज ठीक हुए हैं। प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट 2 प्रतिशत हो गई है।

प्रभारी अधिकारी सतर्क हो जाएं 
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कोरोना के लिए हर जिले के लिए बनाए गए वरिष्ठ प्रभारी अधिकारी सतर्क हो जाएं। वे अपने प्रभार के जिलों की निरंतर मॉनीटरिंग (Monitoring) करें और कोरोना से बचाव व उपचार की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें।

क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप निर्णय लें 

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि सभी कलेक्टर्स अपने जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप (Crisis Management Group) की बैठक में कोरोना नियंत्रण संबंधी निर्णय लें। किसी भी प्रकार का लॉकडाउन( Lock down) अथवा नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) के संबंध में राज्य सरकार की अनुमति लेना आवश्यक है।