मेडिकल काॅलेज में व्हाइट कोट सेरेमनी का आयोजन किया गया *व्हाइट कोट पहनना बड़ी जिम्मेदारी * - Bhaskar Crime

Breaking

मेडिकल काॅलेज में व्हाइट कोट सेरेमनी का आयोजन किया गया *व्हाइट कोट पहनना बड़ी जिम्मेदारी *

मेडिकल कॉलेज में नवीन सत्र की शुरुआत पर हुई व्हाइट कोट सेरेमनी

 मेडिकल काॅलेज में व्हाइट कोट सेरेमनी का आयोजन किया गया, 

नए विषय फाउंडेशन कोर्स की शुरुआत हुई है।

जिसमें सभी को उनकी जिम्मेदारियों के बारे में बताया गया

मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ.पीके कसार ने विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दी।


 *व्हाइट कोट पहनना बड़ी जिम्मेदारी * 

*दो साल से हो रहा आयोजन *

जबलपुर,  चिकित्सा शिक्षा में बीते वर्ष से नए विषय फाउंडेशन कोर्स की शुरुआत हुई है। साथ ही जब चिकित्सा शिक्षा प्राप्त करने विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश करें तो व्हाइट कोट सेरेमनी का आयोजन भी किया जाए। इसी निर्देशानुसार नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज में वर्ष 2019 से व्हाइट कोट सेरेमनी की शुरुआत हुई। दूसरी बार वर्ष 2020 में प्रवेशित विद्यार्थियों के लिए व्हाइट कोट सेरेमनी का आयोजन किया गया।

*व्हाइट कोट पहनना बड़ी जिम्मेदारी*

मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ.पीके कसार ने विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दी। साथ ही कहा कि आपने जो व्हाइट कोट पहना है यह बड़ी जिम्मेदारी है। चिकित्सा शिक्षा प्राप्त करने के दौरान कई प्रकार के अनुभव आपको मिलेंगे। जो भविष्य में आपके लिए लाभदायक होंगे।

दो साल से हो रहा आयोजन -को-ऑर्डिनेटर एमईयू मेडिकल डॉ. कविता एन सिंह ने नए व पुराने कोर्स के अंतर को बताया। उन्होंने बताया कि पूर्व में दी जाने वाली चिकित्सा शिक्षा में फाउंडेशन कोर्स शामिल नहीं था और न ही व्हाइट कोट सेरेमनी। लेकिन दो वर्षों से इनका आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष कोरोना के कारण एक माह में पूरा किया जाने वाला फाउंडेशन कोर्स करीब पांच माह में दो घंटे की कक्षाओं के माध्यम से पूरा किया जाएगा। चिकित्सा विद्यार्थी जो व्हाइट कोट पहनते हैं, उन्हें पता होना चाहिए कि व्हाइट कोट क्यों पहना जाता है। इसका महत्व क्या है। इसे पहनकर चिकित्सक के पेशे को अपना लेना ही काफी नहीं है। व्हाइट कोट के पीछे बड़ी जिम्मेदारी छिपी हुई हैं। इन सारी जिम्मेदारियों का अहसास कराने के लिए ही मेडिकल कॉलेज में नवप्रवेशित विद्यार्थियों के लिए व्हाइट कोट सेरेमनी का आयोजन किया गया। जिससे विद्यार्थी चिकित्सक के पेशे के ग्लैमर के साथ ही अपनी जिम्मेदारियों का भी ध्यान रखें। व्हाइट कोट सेरेमनी के दौरान विद्यार्थियों को व्हाइट कोट सेरेमनी की शपथ भी दिलाई गई। जिसमें कहा गया कि इस व्हाइट कोट को पहनकर अपनी आखिरी सांस या धरती पर मौजूद पीड़ित मानवों की जिंदगी को बचाने की कोशिश करेंगे।