खाकी वर्दी और दो स्टार लगाए हुए एक महिला को हिरासत में लिया। - Bhaskar Crime

Breaking

खाकी वर्दी और दो स्टार लगाए हुए एक महिला को हिरासत में लिया।

 *ये वर्दी नकली है,  खाकी वर्दी और दो स्टार लगाए हुए एक महिला को हिरासत में लिया। 


       इस नाम की कोई महिला अधिकारी ही नहीं*   शौक ने पहुंचाया हवालात

पिता ने एसपी के सामने लगाई SI बेटी को वेतन देने की गुहार; जांच में पता चला, इस नाम की कोई महिला अधिकारी ही नहीं* 

2017 में दी थी SI की परीक्षा, फेल होने पर भी घर वालों को बताया कि उसका चयन हो गया है)

*कटनी/एक पिता ने कटनी एसपी से गुहार लगाई कि मेरी बेटी सब इंस्पेक्टर है और उसे एक साल से वेतन नहीं दिया गया है। उसे जल्द वेतन दिया जाए। पुलिस ने जांच की तो पता चला कि पिता ने जो नाम बताया उस नाम की तो कोई महिला सब इंस्पेक्टर है ही नहीं। पुलिस ने छानबीन की तो महिला के फर्जी सब इंस्पेक्टर बनकर घूमने की बात सामने आई।

कटनी जिले के माधवनगर थाने की झिंझरी चौकी पुलिस ने महिला को फर्जी सब इंस्पेक्टर बनने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपी महिला के पास से खाकी वर्दी, मप्रपु का मोनो, टोपी, नेम प्लेट, नीली व्हीसल डोरी, ब्राउन बेल्ट, जूता, बैरेट कैप को जब्त किया है।

पुलिस ने बताया कि जबलपुर जिले के घमापुर थाना अंतर्गत कांचघर निवासी गेंदालाल गौटिया ने कटनी पुलिस अधीक्षक कार्यालय में शिकायत पत्र दिया। इसमें बताया गया कि उनकी 27 साल की बेटी संजना गौंटिया एसआई के पद पर कटनी पुलिस विभाग में पदस्थ है। लेकिन उसको वेतन नहीं दिया जा रहा है। शिकायत पत्र में वेतन दिलाए जाने और जिसकी लापरवाही से अब तक वेतन नहीं मिला, उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की गई।

जब एसपी ने इस शिकायत की जांच करवाई तो पता चला कि संजना गौंटिया नाम की कोई भी महिला कटनी जिले में एसआई के पद पर पदस्थ नहीं है। जांच के बाद पुलिस टीम ने 18 अप्रैल को पुलिस अधीक्षक कार्यालय के पास से खाकी वर्दी और दो स्टार लगाए हुए एक महिला को हिरासत में लिया। उसकी नेम प्लेट में संजना गौंटिया लिखा हुआ था। पूछताछ में संजना ने बताया कि वह पुलिस विभाग में नहीं है। उसने अपने पिता और मोहल्ले वालों से झूठ बोला था।


 *2017 में भर्ती होने की दी जानकारी, सागर में 15 महीने ट्रेनिंग भी की* 


आरोपी महिला संजना ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसने 2017 में एसआई की परीक्षा दी थी, लेकिन उसका चयन नहीं हुआ था। इसके बावजूद संजना ने अपने घर वालों और मोहल्ले वालों से कहा कि उसका सिलेक्शन हो गया है। वर्ष 2018 में वह ट्रेनिंग करने के लिए सागर गई और वहां हॉस्टल में किराए का कमरा लेकर करीब 15 महीने रही, जबकि यहां पर उसकी कोई ट्रेनिंग हुई ही नहीं। हालांकि इस बीच वह अपने पिता से लगातार झूठ बोलती रही।


पिछले वर्ष अप्रैल महीने में उसने अपने पिता से कहा कि उसकी पोस्टिंग कटनी में हो गई। इसके बाद भी उसने अपने पिता से यह कहकर रुपए मांगे कि उसे जब सैलरी मिलेगी तो वह वापस कर देगी। पुलिस ने बताया कि आरोपी महिला जबलपुर स्थित अपने घर से कटनी में ड्यूटी करने के लिए वर्दी पहनकर निकलती थी और रोज अप-डाउन करती थी।


पुलिस अभी इस बात की जांच कर रही है कि आखिर महिला ने ऐसा क्याे किया। प्रारंभिक तौर पर यही माना जा रहा है कि उसे वर्दी पहनने का शौक था और परीक्षा देने के बाद भी जब सफलता नहीं मिली। इसके बाद उसने खुद ही वर्दी पहनी और घूमने लगी। पुलिस अभी पूरे मामले की जांच कर रही है।