मिसाल मेडिकल कॉलेज के डाक्टर मरीजों की सेवा के साथ माता-पिता के प्रति अपने दायित्व को भी निभाया - Bhaskar Crime

Breaking

मिसाल मेडिकल कॉलेज के डाक्टर मरीजों की सेवा के साथ माता-पिता के प्रति अपने दायित्व को भी निभाया

 मरीजों की सेवा के साथ माता-पिता के प्रति अपने दायित्व को भी निभाया 


24 अप्रैल को उनके माता-पिता स्वस्थ होकर हास्पीटल k डिस्चार्ज हो चुके हैं 

तथा अब घर पर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं ।

साहस और समर्पण की मिसाल जबलपुर मेडिकल कॉलेज के डाक्टर

Jabalpur / कोरोना महामारी की दूसरी लहर बड़ी तेजी से अपने विकराल रूप में सामने आई हैऔर बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित किया है ।कोरोना संक्रमण से प्रभावित होने वाले लोगो मे सेवा कार्य में लगे चिकित्सक और उनके परिजन 


भी शामिल है ।ऐसे कठिन समय में चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ का सेवा भाव ,समर्पण ,कर्तव्यनिष्ठा व कठिन परिस्थितियों से जूझने की जीजिविषा देखी जा रही है 

  ऐसा ही एक उदाहरण जबलपुर में सामने आया नेताजी सुभाष चन्द्र बोस मेडिकल कॉलेज जबलपुर की सेकेन्ड ईयर पोस्ट ग्रेजुएट स्टूडेंट डाक्टर साधना वर्मा को कोविड वार्ड में सेवाएँ देने के लिए नियुक्त किया गया था उसी दौरान उनके सिगरौली मे निवासरत पिता श्री राजकुमार वर्मा (आयु 55 वर्ष )व माता श्रीमती शीला देवी वर्मा (आयु 53 वर्ष ) के कोरोना से संक्रमित हो गये ।

डाक्टर साधना वर्मा के माता-पिता की देखभाल के लिए सिगरौली मे कोई नहीं था ऐसे में उनके समक्ष दुविधा की स्थिति उत्पन्न हो हो गयी ।विपरीत परिस्थितियों में धैर्य व संयम का परिचय देते हुए उन्होंने अपने माता-पिता को जबलपुर बुलाने का निर्णय लिया तथा मेडिकल के कोविड वार्ड में एडमिट कर अन्य मरीजों की सेवा के साथ माता-पिता के प्रति अपने दायित्व को भी निभाया ।24 अप्रैल को उनके माता-पिता स्वस्थ होकर हास्पीटल k डिस्चार्ज हो चुके हैं तथा अब घर पर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं ।

ऐसे कर्मवीरो की कर्तव्यनिष्ठा व समर्पण से ही जबलपुर कोरोना को परास्त करने की ओर बढ़ रहा है