कोविड की तीसरी लहर की आशंका को देखते हु लिक्विड ऑक्सीजन का प्लांट - Bhaskar Crime

Breaking

कोविड की तीसरी लहर की आशंका को देखते हु लिक्विड ऑक्सीजन का प्लांट



 *जबलपुर जिला अस्पताल में लगेगा लिक्विड ऑक्सीजन का प्लांट, 
मेडिकल में तीसरा ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक स्थापित करने का काम शुरू* 
जिला अस्पताल में 6 केएल क्षमता का लिक्विड प्लांट लगाने का काम शुरू

 जबलपुर // कोविड से जंग की तैयारी में कोविड की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए संसाधन बढ़ाने की कोशिश शुरू कर दी गई है। जिला अस्पताल में तीसरा ऑक्सीजन प्लांट लगेगा। इस बार का प्लांट लिक्विड ऑक्सीजन पर आधारित होगा। पीपीपी मॉडल पर निजी कंपनी इसे लगाने जा रही है। वहीं मेडिकल में पूरे महाकौशल के मरीजों का दबाव रहता है। इसे देखते हुए यहां तीसरे ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक लगाने का काम शुरू कर दिया गया है।

जिले में कोविड की दूसरी लहर में ऑक्सीन की किल्लत की तस्वीर लोग भूले नहीं है। ऑक्सीजन की इसी मारामारी को देखते हुए प्रशासन अभी से तैयारियों में जुट गया है। प्रशासन ने आशंका जताई है कि जनवरी के लास्ट और फरवरी में कोविड के मामले तेजी से बढ़ सकते हैं।

 *जिला अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीन प्लांट लगेगा* 

जबलपुर जिला अस्पताल में 500 और 570 लीटर प्रति मिनट (एलपीएम) क्षमता के दो एयर सेपरेशन ऑक्सीजन प्लांट पहले से लग चुके हैं। दोनों से प्रति मिनट हवा से 1100 लीटर ऑक्सीजन बनाया जा सकता है। इसकी सप्लाई सीधे आईसीयू वार्ड में होती है। अब 6 केएल क्षमता का लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट लगाने की तैयारी है। इसके लिए जरूरी प्लेटफार्म बनाने का काम शुरू हो गया है। इसके अलावा 600 एलपीएम का एयर सेपरेशन प्लांट स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट में स्थापित है।

 *मेडिकल में तीसरे एएसयू का काम शुरू* 

जबलपुर मेडिकल कॉलेज में सबसे अधिक कोविड मरीजों का भार रहता है। जबलपुर के अलावा आसपास के जिलों से भी कोविड के गंभीर मरीज रेफर होकर यहीं भर्ती होने आते हैं। ऐसे में ऑक्सीजन की सबसे अधिक जरूरत रहती है। मेडिकल में 10-10 केएल क्षमता के दो ऑक्सीजन स्टोरेज पहले से स्थापित हैं। अब 10 केएल क्षमता का तीसरा ऑक्सीजन स्टोरेज स्थापित करने का काम चल रहा है। यहां से सीधे आईसीयू और एचडीयू वार्ड में ऑक्सीजन की सप्लाई होती है।