दिव्यांगजनों के लिए बहुउद्देश्यीय शिविर का आयोजन किया जाये - Bhaskar Crime

Breaking

दिव्यांगजनों के लिए बहुउद्देश्यीय शिविर का आयोजन किया जाये

     दिव्यांगजनों के हितार्थ एडव्होकेसी बैठक

 आयुक्त नि:शक्तजन श्री संदीप रजक की अध्यक्षता में संपन्न 



कलेक्टर डा.इलैयाराजा ने कहा कि कोविड ड्यूटी में लगे सभी शिक्षक अब वापस जाकर शैक्षणिक कार्य में लग जाये 

बैठक के दौरान दिव्यांगजनों के लिए संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों की समीक्षा करने के साथ उनकी शिक्षा, स्वरोजगार, कृत्रिम उपकरण, दिव्यांग प्रमाण-पत्र व इलाज आदि 


विस्तृत चर्चा कर कहा गया कि जनपद स्तर पर दिव्यांगजनों के लिए बहुउद्देश्यीय शिविर का आयोजन किया जाये 

 *जबलपुर//आयुक्त नि:शक्तजन  संदीप रजक की अध्यक्षता में आज कलेक्टर सभागार में दिव्यांगजनों के हितार्थ एडव्होकेसी बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सलोनी सिडाना, नगर निगम कमिश्नर श्री आशीष वशिष्ठ, संयुक्त संचालक, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन श्री आशीष दीक्षित सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे

 बैठक के दौरान दिव्यांगजनों के लिए संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों की समीक्षा करने के साथ उनकी शिक्षा, स्वरोजगार, कृत्रिम उपकरण, दिव्यांग प्रमाण-पत्र व इलाज आदि के बारे में विस्तृत चर्चा कर कहा गया कि जनपद स्तर पर दिव्यांगजनों के लिए बहुउद्देश्यीय शिविर का आयोजन किया जाये जिसमें दिव्यांगजनों की पहचान, उनकी प्रमाण-पत्र, कृत्रिम उपकरण व रोजगार तथा स्वरोजगार सुनिश्चित हो सके। दिव्यांगजनों की शिक्षा के लिए श्री रजक ने कहा कि होस्टल शीघ्र चालू किया जाये और उनके पालकों को भी सूचित करें कि वे अपने बच्चों को पढ़ाई के लिए स्कूल भेजना सुनिश्चित करें। केंट बोर्ड द्वारा अभी तक दिव्यांगों की स्कूल संचालित नहीं होने पर संयुक्त संचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन श्री दीक्षित को निर्देश दिये की वे उन्हें नोटिस दें कि स्कूल शीघ्र शुरू किया जाये। कलेक्टर श्री इलैयाराजा ने कहा कि कोविड ड्यूटी में लगे सभी शिक्षक अब वापस जाकर शैक्षणिक कार्य में लग जायें। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कहा कि दिव्यांगजनों की शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वरोजगार आदि कि दिशा में बेहतर कार्य करें।

आयुक्त श्री रजक ने दिव्यांगजनों के लिए कुछ अच्छा करने के लिए कहा, साथ ही उन्हें प्रोत्साहित करने पर भी बल दिया और डीडीआरसी की शिकायतों के निराकरण के साथ ही जिला पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारी निर्देशित किया कि वे इसकी सतत मानिटरिंग करें। संभागीय डीडीआरसी को एक्सीलेंस बनाने के साथ ही शीघ्र ही वर्कशॉप चालू करने के निर्देश दिये गये। दिव्यांगजनों की सुविधाओं के लिए प्रमुख स्थानों पर रैम्प, रैलिंग व लिफ्ट आदि की व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ थानों में मूकबधिर की सहायता के लिए एक्सपर्ट की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। इसी तारतम्य में शहर के प्रमुख स्थानों सायनेज लगाने व दिव्यांगों के उपचार के साथ समुचित व्यवहार करने पर जोर दिया गया।