संभाग स्तरीय बैठक मे कहां पीएस ने कलेक्टरों से कहा कि पंजीकृत किसानों का सत्यापन सही हो - Bhaskar Crime

Breaking

संभाग स्तरीय बैठक मे कहां पीएस ने कलेक्टरों से कहा कि पंजीकृत किसानों का सत्यापन सही हो

 उपार्जन व्यवस्था व उचित मूल्य दुकानों के सुदृढ़ीकरण के संबंध में संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक


पीएस ने कलेक्टरों से कहा कि पंजीकृत किसानों का सत्यापन सही हो इसकी मॉनिटरिंग करें

संभागीय कमिश्नर, जबलपुर कलेक्टर,

 नरसिंहपुर कलेक्टर,  छिंदवाड़ा कलेक्टर,सिवनी कलेक्टर, बालाघाट कलेक्टर,   

मंडला कलेक्टर,डिंडौरी कलेक्टर,   कटनी कलेक्टर 


संभाग के सभी जिलों के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के अधिकारी उपस्थित थे

जबलपुर//खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के पीएस श्री फैज अहमद किदवई ने आज उपार्जन व्यवस्था व उचित मूल्य दुकानों के सुदृढ़ीकरण के संबंध में संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक कलेक्टर सभागार में की। 

स दौरान संभागीय कमिश्नर श्री बी.चंद्रशेखर, जबलपुर कलेक्टर श्री इलैयाराजा टी, नरसिंहपुर कलेक्टर श्री रोहित सिंह, छिंदवाड़ा कलेक्टर श्री सौरभ कुमार सुमन, सिवनी कलेक्टर श्री राहुल हरिदास फटिंग, बालाघाट कलेक्टर श्री गिरीश कुमार मिश्रा, मंडला कलेक्टर हर्षिका सिंह, डिंडौरी कलेक्टर रत्नाकर झा, कटनी कलेक्टर श्री प्रियंक मिश्र व संभाग के सभी जिलों से खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक रबी उपार्जन 22-23 में किये नवीन प्रावधानों से शुरू हुआ जिसमें कहा गया कि कृषक द्वारा स्वयं उपज विक्रय के लिए उपार्जन केन्द्र का चयन निर्धारित मापदंडों के अनुसार कर सकता है। उपार्जन केन्द्र की तौल, क्षमता, एसएमएस के स्थान पर स्लॉट बुकिंग, उपार्जन प्रभारी एवं कृषक के बायोमेट्रिक सत्यापन के आधार पर खरीदी, देयक जारी सत्यापन की व्यवस्था ओटीपी या बॉयोमेट्रिक डिवाइस से करने, वृद्ध एवं शारीरिक रूप से अक्षम, कृषक की खरीदी नामिनी के माध्यम से करने, प्रत्येक केन्द्र पर बायोमेट्रिक डिवाइस लगाने की अनिवार्यता, पीएफएमएस के माध्यम से किसान के आधार लिंक, बैंक खाते में राशि का भुगतान करने, भुगतान की अवधि, 42 से 72 घंटे के बीच करने, आउटसोर्सिंग के माध्यम से प्रत्येक केन्द्र पर ग्रेडर एवं सफाई मशीन स्थापित करने, किसानों द्वारा स्वयं की व्यय पर अपनी उपज की ग्रेडिंग एवं सफाई की अनिवार्यता आदि पर चर्चा कर गेंहू पंजीयन की स्थिति की समीक्षा की गई। 

पीएस ने सभी कलेक्टर्स से कहा कि पंजीकृत किसानों का सत्यापन सही हो इसकी मॉनिटरिंग करें। बैठक में विगत वर्ष की तुलना में इस वर्ष की बोवनी का रकबा और उत्पादित फसल का अनुमान लगाया गया और गेंहू उपार्जन केन्द्रों की समीक्षा कर कहा कि आवश्यकतानुसार गोदाम स्तरीय केन्द्र बढ़ायें। किसानों के लिए तिथि व समय के स्लॉट व्यवस्था पर कहा गया कि यदि किसी विशेष या प्राकृतिक कारणों से स्लॉट चूक जाता है तो उन्हें अवसर प्रदान करें। खरीदी केन्द्र में नोडल अधिकारी के सत्यापन पर ही तौल पर विचार करते हुए कहा गया कि एक दो दिन में यह जरूर करें, ताकि सुधार की गुंजाइश बनी रहें। 

उपार्जन के प्रोसेस पर पीएस ने कहा कि इसमें सावधानी व सतर्कता की आवश्यकता है। बारदानों की उपलब्धता, रबी उपार्जन परिवहन व स्वीकृति के साथ गेहूँ उपार्जन के लिये गुणवत्ता पर निर्देश देते हुये उन्होंने कहा कि घुने दाने बिल्कुल भी न हो और प्रस्तावित स्पेशिफिकेशन का विशेष ध्यान रखा जाये। सर्वेयर के लिये गुणवत्ता नियंत्रण व उसके दायित्व समिति द्वारा किये जाने वाले कार्य के साथ जिला स्तर पर किये जाने वाले महत्वपूर्ण कार्यों के बारे में आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। परिवहन में कम से कम बैकलॉग हो, अनलोडिंग में कितना मैनपावर है यह सतत् रूप से मॉनीटर करने के निर्देश भी दिये। बैठक में कहा गया कि यह कोशिश करें कि उपार्जित फसल का जल्दी से जल्दी उठाव हो जाये और यह ध्यान रखा जाये कि कैप में जूट के बैग वाले ही रखा जाये। जिलेवार उपलब्ध भण्डारण व साइलोबैग के साथ खरीफ उपार्जन के भुगतान शीघ्र करने को कहा गया। इस दौरान मिलिंग पर भी विस्तार से चर्चा कर समय पर मिलिंग करने के निर्देश दिये। 

उचित मूल्य की दुकानों के सुदृढ़ीकरण के संबंध में दुकानवार भण्डारण व्यवस्था एवं युक्तियुक्तकरण, पीडीएस पर नियुक्त विक्रेताओं की स्थिति, दुकान विहीन पंचायत, ऑफ लाइन दुकानों को ऑनलाइन करने के साथ पीडीएस दुकानों के नवीनीकरण पर कहा कि यदि दुकानों में लापरवाही होती है तो उनका नवीनीकरण न करें। खाद्यान्न प्रदाय केन्द्रों पर भण्डारण की व्यवस्था, मुख्यमंत्री राशन आपके ग्राम योजना अंतर्गत खाद्यान्न वितरण, पात्र परिवारों का सत्यापन, राशन मित्र पोर्टल, खाद्यान्न आवंटन उठाव व वितरण, डिजिटल ट्रॉन्जेक्शन, अन्न उत्सव, पीओएस मशीन से पावती, दाल के वितरण, पात्र परिवारों के मोबाइल सीडिंग, दुकानों के निरीक्षण, बेघर व बेसहारा लोगों को खाद्यान्न के साथ ऐथेनॉल कम्प्रेस्ड बायोगैस बायोडीजल का उत्पादन व बिक्री, उपार्जन केन्द्रों के तौलकांटों व धर्मकांटों का सत्यापन आदि के साथ 2022 तक संभावित लक्ष्य के विरूद्ध राजस्व प्राप्ति पर चर्चा कर कहा कि खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण पर प्राथमिकता से कार्य करें।