छात्रावास में रात्रि को घुसे युवक प्रिंसिपल एम वेग एवं छात्रावास प्रबंधन ने आज तक एफ आई आर दर्ज नहीं कराई - Bhaskar Crime

Breaking

छात्रावास में रात्रि को घुसे युवक प्रिंसिपल एम वेग एवं छात्रावास प्रबंधन ने आज तक एफ आई आर दर्ज नहीं कराई


ज्ञानोदय कन्या छात्रावास में रात्रि को घुसे युवकों एवं प्रिंसिपल की संदिग्धता 

प्रिंसिपल एम वेग एवं छात्रावास प्रबंधन ने आज तक एफ आई आर दर्ज नहीं कराई 


पर कांग्रेस ने कलेक्टर के नाम डिप्टी कलेक्टर मेघा पटनायक को सौंपा ज्ञापन*

*छात्रावास में घुसे युवकों पर एक सप्ताह से क्यों नहीं हुई एफ.आई.आर दर्ज


*जबलपुर//  मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव रामदास यादव के नेतृत्व में कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल में नारायण गुप्ता, आलोक भट्ट, महेश मिश्रा, मुकेश गिरी, सुरेंद्र यादव, संतोष कौल, परमानंद पटेल, संदीप यादव ने कलेक्टर के नाम एक ज्ञापन कलेक्टर परिसर में डिप्टी कलेक्टर मेघा पटनायक को सौंपते हुए कांग्रेस के महासचिव रामदास यादव ने चर्चा में बताया कि एक सप्ताह पूर्व दिनांक 07 मार्च 2022 को रांझी, शारदा नगर स्थित ज्ञानोदय आदिवासी कन्या छात्रावास में रात्रि लग-भग 2:30 बजे (तीन युवक) छात्राओं के कमरों में घुसकर छात्राओं के साथ छेड़-छाड़ अभद्रता जैसा कृत्य किया गया जिसकी संपूर्ण जानकारी प्रिंसिपल को महिला वार्डन शांति चौधरी एवं छात्राओं तथा चौकीदार ने दूसरे दिन ही दी किंतु प्रिंसिपल एम वेग द्वारा इस घटना पर कार्यवाही करने की वजाए घटना को छुपाने एवं दबाने का प्रयास किया जा रहा है।

इस घटना को आज लग-भग एक सप्ताह से ऊपर हो चुके हैं किंतु आज तक इस घटना पर प्रिंसिपल एम वेग एवं छात्रावास प्रबंधन ने आज तक एफ आई आर दर्ज नहीं कराई तथा प्रिंसिपल एम वेग के द्वारा छात्रावास की छात्राओं एवं स्टाफ को डराया धमकाया जा रहा है जिसके कारण छात्राओं में डर भय का माहौल बना हुआ है। जिन छात्राओं को प्रिंसिपल का सहयोग मिलना चाहिए किंतु प्रिंसिपल के द्वारा इस कृत्य में लिप्त युवाओं को बचाने और छात्र छात्राओं सहित स्टाफ को डराने एवं पूरी घटना में पर्दा डालने का काम किया जा रहा है।

जिसके खिलाफ कांग्रेस के प्रदेश महासचिव रामदास यादव, नारायण गुप्ता, आलोक भट्ट, महेश मिश्रा, मुकेश गिरी, सुरेंद्र यादव, संतोष कौल, परमानंद पटेल, संदीप यादव ने डिप्टी कलेक्टर से दो टूक में कहा की एफ आई आर दर्ज कर जल्द से जल्द उच्च स्तरीय कमेटी से जांच कराते हुए दो दिनो के भीतर दोषियों पर दंडात्मक कार्यवाही कर प्रिंसिपल को तत्काल निलंबित किया जाए।ऐसा नहीं होने पर कांग्रेस पार्टी आंदोलन करने के लिए बाध्य होगी जिसकी समस्त जवाबदारी जिला प्रशासन की होगी।