सरकारी डॉक्टर बने भगवान एक वर्षीय बच्ची ने खिलौना प्लास्टिक का छोटा सा लट्टू निगल लिया - Bhaskar Crime

Breaking

सरकारी डॉक्टर बने भगवान एक वर्षीय बच्ची ने खिलौना प्लास्टिक का छोटा सा लट्टू निगल लिया

 सरकारी डॉक्टर बने भगवान: बचाई एक साल की बच्ची की जान


बच्ची का ऑपरेशन करके प्लास्टिक का खिलौना बाहर निकाला। 

जबलपुर// खेलने के दौरान एक वर्षीय बच्ची ने खिलौना (प्लास्टिक का छोटा सा लट्टू) निगल लिया। होली के दिन हुई घटना ने परिवार के त्योहार के रंग में भंग घोल दिया। बच्ची की सेहत बिगडऩे पर परिजन उसे लेकर नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज आए। बच्ची की हालत गंभीर होने और तुरंत ऑपरेशन की जरूरत थी। इसकी जानकारी जब सीनियर डॉक्टर को मिलीं तो वे तुरंत अस्पताल पहुंची। बच्ची का ऑपरेशन करके प्लास्टिक का खिलौना बाहर निकाला। इससे बच्ची की जान बच गई।मेडिकल कॉलेज में होली के दिन हुई सर्जरी


 *बच्ची ने प्लास्टिक का लट्टू निगला, सर्जरी से बची जान* 


डॉक्टरों की टीम की मेहनत से बच्ची के परिजनों को त्योहार पर खुशियों के रंग से फिर भर दिया। नरसिंहपुर जिले के करली तहसील अंतर्गत पिपरिया बरोदिया निवासी विमलेश कुशवाहा के अनुसार उसकी एक वर्षीय भतीजी घर में खेल रही थी। अचानक वह मुंह-नाक से उल्टी करने लगी। उसकी तेजी से लार बह रही थी। सांस अटक रही थी। घबराकर नरसिंहपुर में डॉक्टर के पास ले गए। जहां पता चला कि बच्ची ने छोटे से ढक्कन बराबर प्लास्टिक का खिलौना निगल लिया है। बच्ची हालत लगातार बिगड़ रही थी।

नरसिंहपुर में डॉक्टरों ने जांच के बाद जबलपुर रेफर किया। जहां, मेडिकल कॉलेज में जांच कराया। सर्जरी की तुरंत जरूरत बताई गई। त्योहार के कारण ओपीडी बंद थी। लेकिन जब नाक, कान एवं गला रोग विशेषज्ञ डॉ. कविता सचदेवा से फोन पर आग्रह किया और बच्ची के बारे में जानकारी दी गई तो वे फौरन अस्पताल आ गई। तुरंत सर्जरी करके बच्ची की जान बचा ली।


*जटिल था ऑपरेशन* 


डॉक्टरों के अनुसार बच्ची को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती किया गया था। प्लास्टिक का खिलौना होने के कारण ऑपरेशन काफी जटिल था। एक्स-रे में प्लास्टिक का छोटा सा खिलौना नजर नहीं आ रहा था। इससे सर्जरी टीम इस बात का अंदाजा नहीं लगा पा रही थी कि प्लास्टिक का खिलौना फंसा किस जगह पर है। लेकिन डॉक्टरों की टीम ने अनुभव के आधार पर सटीक जगह पर ऑपरेशन किया। सर्जरी सफल रही।