पहली बार किसी राजनेता ने समाचार पत्र विक्रेताओ वोट डालने की अपील की थी - Bhaskar Crime

Breaking

पहली बार किसी राजनेता ने समाचार पत्र विक्रेताओ वोट डालने की अपील की थी

व्यतिगत रूप से जनता हूँ की 80 प्रतिशत पत्र विक्रेता बीजेपी समर्थक हें लेकिन उनको अन्नू ने महत्त्व दिया 

 पहली बार किसी राजनेता ने समाचार पत्र विक्रेताओ 

वोट डालने की अपील की थी 


समाचार पत्र विक्रेताओ ने अन्नू को जिताया बल्कि ये कहना हे की २००० पत्र विक्रेता समीकरण बदलने की ताकत रखते हें

जबलपुर // पहली बार किसी राजनेता ने समाचार पत्र विक्रेताओ की शक्ति को (जगत बहादुर अन्नू ने )समझा और उनसे वोट डालने की अपील की |समाचार पत्र विक्रेताओ ने भी उनको भरपूर सहयोग किया |आपको विदित हो की सबसे अधिक समाचार पत्र विक्रेता मिलौनिगंज उसके बाद घमापुर और कुछ पत्र विक्रेता रामपुर छापर में रहते हे |


समाचार पत्र विक्रेताओ ने अन्नू का व्यक्तित्व स्वाभाव और उनके कार्य को देखते हुए उनको दिल से सपरिवार समर्थन किया |में व्यतिगत रूप से जनता हूँ की 80 प्रतिशत पत्र विक्रेता बीजेपी समर्थक हें लेकिन उनको अन्नू ने महत्त्व दिया तो उन्होंने अन्नू का ही समर्थन किया |यही एक कारण हे की अन्नू को इनके रिहायसी क्षेत्र से सबसे अधिक वोट मिली |मेरा यह कहना नही हे की समाचार पत्र विक्रेताओ ने अन्नू को जिताया बल्कि ये कहना हे की २००० पत्र विक्रेता समीकरण बदलने की ताकत रखते हें | बीजेपी के अभेद किला माने जाने वाले जबलपुर में अन्नू का जीतना किसी चमत्कार से कम नहीं हे |अन्नू के नेक कार्य और बेदाग छवि उनके जीतने में सहायक तो थी ही साथ ही माँ नर्मदा की कृपा माता वैष्णो देवी की क्रपा और बगुलामुखी मंदिर की क्रपा उनके साथ थी |बड़े महावीर जी के हनुमान जी भी उनके लिए सहायक बने |उनका जीतना गया तो कांग्रेस के खाते में लेकिन मेरा ऐसा मानना हे की अन्नू यदि निर्दलीय लड़ते तो इससे ज्यादा अंतर से जीतते |वैसे भी कांग्रेस के कोई स्टार प्रचारक अन्नू के समर्थन में नहीं आये अन्नू ने अख़बार विक्रेताओ को जो वरीयता दी ,हो सकता हे की आने वाले समय में अन्य राजनेता भी इनकी शक्ति को समझेंगे |अन्नू जबलपुर का काया कल्प करेंगे और सत्ता की चकचौंध में बदलेंगे नहीं ऐसा मेरा विस्वास हे