कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस ने सीएम हेल्पलाइन में प्राप्त शिकायतों की विभागवार विस्तृत समीक्षा की बैठक में निधन दिया - Bhaskar Crime

Breaking

कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस ने सीएम हेल्पलाइन में प्राप्त शिकायतों की विभागवार विस्तृत समीक्षा की बैठक में निधन दिया

 * कलेक्टर ने कहा, सीएम हेल्पलाइन में शिकायतों का संतुष्टि के साथ गुणवत्तापूर्ण  निराकरण सुनिस्चित करें समस्त अधिकारी-*


*लापरवाही वरतने वाले अधिकारी/कर्मचारी पर होगी कार्यवाही ईई पीएचई को बिना जानकारी बैठक में आने पर उनका एक दिवस का वेतन रोकने निर्देश समय सीमा पत्रों की साप्ताहिक समीक्षा बैठक संपन्न*

भिण्ड // कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस की अध्यक्षता में सीएम हेल्पलाइन, विभिन्न विभागों अंतर्गत क्रियान्वित योजनाओं, समय सीमा पत्रों सहित अन्य विषयों की समीक्षा कर प्रगति की जानकारी लेते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज आयोजित साप्ताहिक समीक्षा बैठक में दिए। इस दौरान एडीएम श्री प्रवीण फुलपगारें, एसडीएम मेहगांव श्री वरुण अवस्थी, डिप्टी कलेक्टर श्री पराग जैन सहित सभी विभागों के प्रमुख एवं अन्य अधिकारी बैठक में उपस्थित रहे।

कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस ने सीएम हेल्पलाइन में प्राप्त शिकायतों की विभागवार विस्तृत समीक्षा की। इस दौरान सर्वाधिक शिकायतें विद्युत विभाग, खाद्य विभाग एवं नगरीय निकायों में लंबित है जिस पर कलेक्टर ने नाराजगी जाहिर करते हुए शिकायतों का संतुष्टि से गुणवत्तापूर्ण निराकरण समय सीमा में करने निर्देशित किया। कलेक्टर ने कठोर शब्दों में निर्देश दिए कि सीएम हेल्पलाइन शासन एवं प्रशासन की सबसे अधिक प्रमुख कार्यक्रम है, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही बरदास्त नही की जाएगी, लापरवाही वरत रहे अधिकारी एवं कर्मचारी के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी।

कलेक्टर ने विभिन्न विभागों अंतर्गत क्रियान्वित फ्लैगशिप योजनाओं की समीक्षा कर योजना में प्राप्त लक्ष्य विरुद्ध प्रगति की स्थिति की जानकारी लेते हुए संवंधित योजना में जिले की राज्य स्तर पर स्थिति से अवगत होते हुए योजनाओं में दिए लक्ष्यों को समय-सीमा में प्राप्त करने के निर्देश दिए। समीक्षा अंतर्गत पीएम किसान योजना, सीएम किसान योजना, पीएम फसल बीमा योजना, पीएम आवास योजना ग्रामीण एवं शहरी, जल जीवन मिशन सहित अन्य योजना सम्मलित रहीं। योजनाओं की समीक्षा के दौरान ईई पीएचई बैठक में जानकारी के साथ न आना पाया गया जिस पर कलेक्टर ने उनका एक दिवस का वेतन रोकने का निर्देश दिया।